शनिवार को लोकल सिस्टम से दिन में छाए बादल, हुई बारिश

अगले सप्ताह बारिश की उम्मीद, बंगाल की खाड़ी में नहीं बना बारिश का सिस्टम
किसानों को बोई गई फसल की सिंचाई करने की कृषि विभाग दे रहा सलाह

By: Dharmendra Singh

Published: 03 Jul 2021, 07:01 PM IST

छतरपुर। आमतौर पर प्रदेश में मानसून 15 से 20 जून तक सक्रिय हो जाता है लेकिन इस बार प्री मानसून की बारिश के बाद लोकल सिस्टम से कहीं बूंदाबांदी तो कहीं हल्की बारिश हो रही है। आसमान से गिरने वाली आफत की चार बूंदें लोगों का जीना दुश्वार कर रही हैं। झमाझम बारिश का अब भी इंतजार है। उधर मानसून के रूठने से लोगों के माथे पर चिंता की लकीरें उभर रही है। इस सप्ताह बारिश होने के कोई आसार नजर नहीं आ रहे। अगले सप्ताह 5 जुलाई के बाद बारिश होने की संभावना व्यक्त की गई है। बंगाल की खाड़ी में बारिश का कोई सिस्टम भी अभी नजर नहीं आ रहा। हालांकि लोकल सिस्टम से जिले में शुक्रवार की रात कहीं कहीं बूंदाबांदी हुई। वहीं, शनिवार की दोपहर 3 बजे के बाद कहीं कहीं बारिश दर्ज की गई। छतरपुर शहर में करीब 20 मिनट बारिश हुई।

मौसम विभाग के मुताबिक इस समय दक्षिण पश्चिम हवाएं चल रही है जो बारिश की दुश्मन मानी जाती हैं। एक ओर बिहार सहित अन्य राज्यों में बारिश का कहर जारी है तो वही बुंदेलखंड में लोग बूंद-बूंद को तरस रहे हैं। खजुराहो मौसम विभाग के आरएस परिहार ने बताया कि जब तक उत्तर पूर्वी हवाएं नहीं चलेगी तब तक झमाझम बारिश की उम्मीद कम है। बुंदेलखंड में 5-6 जुलाई के बाद बारिश होने की संभावना है। क्योंकि अभी बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना नजर नहीं आ रही। उन्होंने बताया कि लोकल डेवलपमेंट के कारण कहीं-कहीं बूंदाबांदी तो कहीं हल्की बारिश हो रही है मगर एक साथ बड़े क्षेत्र में लगातार बारिश होने की अभी उम्मीद कम है।

धीरे-धीरे नीचे खिसक रही हवा की नमी
मौसम विभाग के आर एस परिहार ने बताया कि हवा से नमी धीरे-धीरे नीचे की ओर जा रही है। 80 से 85 और उससे अधिक नमी रहने की स्थिति के समय नमी 50 से 60 के बीच मौजूद है। उन्होंने बताया कि हवा में नमी की गिरावट के कारण उमस बढ़ रही है जिससे लोग परेशान हो रहे हैं तापमान पर नजर डालें तो शुक्रवार को अधिकतम तापमान 39 डिग्री और न्यूनतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

किसानों को उगी फसल की सिंचाई करने की सलाह
सहायक संचालक कृषि एवं एसडीओ छतरपुर डॉक्टर बीपी सूत्रकार ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण कर लगातार किसानों को मार्गदर्शन दे रहे हैं। डॉ. सूत्रकार पिछले दो दिनों में नौगांव एवं राजनगर विकासखंड के करीब 10 गांव का भ्रमण कर किसानों को समझाया कि वे अपनी बोई हुई फसल को कुआं या अन्य जल स्रोतों के माध्यम से पानी दे ताकि फसल सूख न पाए। किसानों को यह भी सलाह दी गई कि वे तभी बुवाई करें जब खेत में पर्याप्त नमी हो और अच्छी बारिश हो। उन्होंने बताया कि प्री मानसून की बारिश के बाद बड़ी तादाद में किसानों ने फसलें बोई हैं। कई किसानों की फसलें सूख रही है और कई किसानों की फसल खेत में नमी ना होने से मिट्टी में ही दफन हो गई है। डॉ. सूत्रकार ने बताया कि नौगांव विकासखंड के निवारी, गढ़ी मलहरा, नुना, लुगासी, बनगाय क्षेत्र का भ्रमण किया तो वहीं राजनगर विकास खंड के बृजपुरा, बसारी, गंज, बमीठा, खजुराहो क्षेत्र का भ्रमण कर किसानों से उनकी बोई हुई फसल के बारे में जानकारी ली और उन्हें आवश्यक सलाह दी।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned