ओपीडी डॉक्टर्स भी होंगे कोरोना संक्रमण को रोकने बनाए गए नए दल में शामिल

ओपीडी बंद होने के बाद मरीजों की संख्या में आई कमी

छतरपुर. लॉक डाउन के चलते बंद की गई सामान्य ओपीडी बंद होने के कारण अब जिला अस्पताल में मरीजों की संख्या भी कम हो गई हैं। ऐसे में अब डॉक्टर्स स्टाफ को कोरोना संक्रमण रोकने के लिए बनाए जा रहे दलों में शामिल किया जाएगा। अब तक जिला अस्पताल के 3 दल है, जो आगे 6 किए जा सकते हैं।
छतरपुर जिला अस्पताल में आम मरीजों के लिए लगने वाली ओपीडी बंद होने के बाद अब इमरजेंसी और गंभीर मरीजों का ही उपचार हो रहा हैं। ऐसे में सबसे अधिक प्रकरण इन दिनों प्रसव के आ रहे हैं। इनके अलावा अन्य रोगों के कम ही मरीज पहुंच रहे हैं। इमरजेंसी ड्यूटी और मेटरनिटी स्टॉफ को छोडक़र अधिकांश डॉक्टर स्टाफ के पास इन दिनों कम काम रह गया हैं। जिसे देखते हुए अब कोरोना संक्रमण के जांच दल में डॉक्टर्स की ड्यूटी लगाई जा सकती हैं।
सिविल सर्जन डॉ. आरएस त्रिपाठी ने बताया कि ओपीडी बंद होने के कारण डॉक्टर्स पर से काम का दबाव कम हुआ है। जिससे अब वह भी कोरोना के दल में शामिल होकर हो रही जांचों में शामिल किए जा सकते हैं। अभी तक ३ दल हैं तो ऑन कॉल पर संदिग्धों की जांच करने के लिए उनके घरों पर पहुंचते है और लक्षण चेक करते हुए होम आइसोलेशन की सलाह देते हैं। अब इसी तरह ३ से ४ दल और तैयार किए जा सकते हैं। जिसमें नए डॉक्टर्स के साथ स्टाफ की ड्यूटी भी लगाई जा सकती हैं। दल बडऩे से अधिक स्क्रीनिंग होगी और हम तेजी से बीमारी के संक्रमण के संदिग्धों तक पहुंच सकते हैं।

Sanket Shrivastava Desk/Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned