त्रयरथ गजरथ फेरी में उमड़ा जनसैलाब

पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव विशाल उत्सव के साथ सम्पन्न

By: Samved Jain

Published: 01 Mar 2020, 10:01 AM IST

घुवारा. नगर में आयोजित हुए पंचकल्याणक महोत्सव का समापन त्रयरथ गजरथ फेरी के साथ किया गया। इस मौके पर फेरी में शामिल होने और देखने के लिए हजारों की भीड़ घुवारा पहुंची। जिसमें प्रदेश के कई जिलों से समाज के लोग शामिल हुए। वहीं सभी वर्गों के लोगों ने इस महामहोत्सव की फेरी को देखा और आनंद लिया।


महोत्सव के अंतिम दिन शनिवार को सुबह जिनेंद्र भगवान का अभिषेक व दिगम्बर जैन बड़ा मन्दिर स्थित शान्तिनाथ भगवान का महामस्तकाभिषेक का आयोजन किया गया। साथ ही शांतिधारा, नित्यनियम पूजन विधान हुआ। दोपहर में मुनि संघ सहित पांडाल में विराजमान हुए। इसके बाद गजरथ फेरी कार्यक्रम की शुरुआत हुई।

कार्यक्रम में विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी, द्वारिका सिंह, शंकर प्रताप सिंह ने भी पहुंचकर मुनिश्री को श्रीफल भेंट कर आशीर्वाद लिया। मुनिश्री ने विरंजन सागर के प्रवचन हुए। जिसमें उन्होंने सभी को रथयात्रा के अनुशासन व नियमों से अवगत कराते हुए कहा कि- पुण्ययोग से अनेक पर्यायों में भटकने के बाद हमें यह मनुष्य पर्याय मिली है और हमें अवसर मिला है रथयात्रा में सम्मिलित होने का। गलत वस्तुओं का खान-पान परिवार और आत्मा की शांति को नष्ट करता है,अत: सभी को यह छोडऩा चाहिए। मुनिश्री ने कहा जिस प्रकार सूर्य की रोशनी सभी के लिए होती है,सरिता जल सबको होता हैं।

वृक्ष के फल सभी के लिए होते हैं वैसे ही संत किसी समाज विशेष के नहीं होते सबके होते हैं।
इसके बाद गजरथ फेरी का शुभारंभ हुआ। जिसमें अहिंसा जैन जागृति दिव्य घोष भेलसी, चंदनवाला बालिका मंडल, ऐरावत हाथी, बग्गी, काजल बैंड ललितपुर, युवावर्ग, रेवती रानी, विरागोदय, महिला मंडल घुवारा, जैन सुमति कला महिला मंडल दिव्यघोष लार, मुनि विरंजन सागर ससंघ ,इन्द्र-इंद्राणियों का समूह विशाल जनसमूह के साथ,त्रय रथ, रथयात्रा निकाली गई। जिसमें शामिल होने और देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग घुवारा पहुंचे।


गजरथ फेरी में अहिंसा जैन जागृति दिव्यघोष के गायन-वादन पर युवामंडल के नवयुवक उत्साहित होकर भक्तिनृत्य करते हुए चल रहे थे। कृत्रिम पुष्प,सुगंधित गुलाल उड़ाते नजर आए सप्त परिक्रमाओं में युवामंडल का नृत्य कड़ी धूप में भी नहीं थमा। बालिका मंडल का डांडिया नृत्य,ललितपुर के काजल बैंड पर रेवती रानी महिलामंडल की समान परिधान धारण करने वाली सभी महिलाओं ने भक्ति नृत्य किए। विरागोदय महिलामंडल ने गरबा नृत्य निर्बाध रूप से भगवान की भक्ति में डूबकर किया। ऐरावत हाथी पर सवार बाबूलाल, अजितकुमार, राजू जैन, बंधा चंदौली व कलाकार चक्रेश सोजना पुष्पवृष्टि कर रहे थे। स्वर्णिम रथ पर राजेन्द्र जैन, सुषमा जैन, ऋतिक रौनक भौयरा वाले सपरिवार विराजित होकर भक्तिमय नृत्य में झूम रहे थे।


त्रयरथों में प्रथम रथ पर सारथी के रूप में
महेश जैन सिमरिया, ध्वज लेकर विकास जैन, डॉ.अरूण जैन, मंत्रो'चारण करते हुए स्थानीय व आगन्तुक व्रतीगण ब्र. महेंद्र भैया,ब्र.राशिदीदी,अंजली दीदी व पंडित नन्हेंभाई सागर,माता-पिता,कुबेर,चक्रवर्ती आदि ने सपरिवार विराजित होकर महती धर्मप्रभावना की। जो रत्नों की वर्षा करते चल रहे थे। जिसे भक्त ग्रहण कर रहे थे। इसी तरह दूसरे और तीसरे रथ पर भी सौधर्मेन्द्र, ईशानेन्द्र, सानत्कुमार, माहेन्द्र इन्द्रादि सपरिवार विराजित होकर भक्ति उत्साह पूर्वक भगवत नामो'चारण करते हुए धर्म प्रभावना में लीन रहे।


पंचकल्याणक समिति के महामंत्री निर्मल जैन बारौ ने बताया कि कार्यक्रम की निर्विघ्न सफलता हमारी समिति के सदस्यों ,घुवारा के युवावर्ग,नगरपरिषद के अधिकारियों कर्मचारियों, पुलिस प्रशासन समस्त समाज और सभी छोटे बड़े कार्यकर्ताओं की कड़ी मेहनत और लगन का परिणाम है। समिति ने सभी का आभार व्यक्त किया। इस मौके पर बाहर से आए लोगों के लिए सभी व्यवस्थाएं भी समिति द्वारा की गई थी।

Samved Jain
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned