30 नवंबर तक नहीं लग सकेंगी प्राथमिक व माध्यमिक की क्लासे, 20 नवंबर से छमाही परीक्षा

कक्षा 1 से 8 तक जारी रहेगी ऑनलाइन पढ़ाई, हमारा घर हमारा विद्यालय योजना
9वी से 12वीं की ओपन बुक पद्धति से होगी छमाही परीक्षा

By: Dharmendra Singh

Published: 13 Nov 2020, 08:25 PM IST

छतरपुर। 15 नवंबर तक प्राथमिक व माध्यमिक स्कूल बंद रखने के आदेश को अब 30 नवंबर तक बढ़ा दिया गया है। स्कूल शिक्षा विभाग ने 30 नवंबर तक क्लासें न लगाने और ऑनलाइन पढ़ाई जारी रखने के आदेश दिए हैं। केंद्र सरकार ने कंटेनमेंट जोन के बाहर के स्कूलों को 15 अक्टूबर से खोलने की अनुमति दे थी, लेकिन आखिरी फैसला राज्यों को लेना था। इसे देखते हुए पहले 15 नवंबर तक स्कूल बंद करने का निर्णय लिया था, लेकिन अब कोविड-19 को देखते हुए इसे बढ़ा दिया गया है। अभी की स्थिति में 30 नवंबर तक स्कूल नहीं खोले जाने का फैसला किया गया है।

9वीं से 12वीं तक 21 नवबर से आंशिक छूट
संक्रमण के कारण राज्य में पहली से 8वीं तक के बच्चों के लिए फिलहाल स्कूल बंद ही रहेंगे। वहीं, 9वीं से 12वीं तक की क्लास आंशिक रूप से वर्तमान स्थिति में चलेंगी। इसके लिए सरकार द्वारा जारी कोविड की गाइडलाइन का सख्ती से पालन अनिवार्य होगा। 21 सितंबर से सीमित संख्या में स्टूडेंट्स के लिए 9वीं से 12वीं तक के स्कूलों को खोला गया है। स्कूलों में कोविड-19 गाइल लाइनक का कड़ाई से पालन किया जा रहा है। हालांकि अभी अधिकांश निजी स्कूल बंद हैं।

20 नवंबर से ओपन बुक परीक्षा
सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों की ओपन बुक पैटर्न पर छमाही परीक्षा 20 नवंबर से शुरू होगी, जो 28 नवंबर तक चलेगी। इस परीक्षा का नाम रिवीजन टेस्ट रखा गया है। यह टेस्ट 9वीं से 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए अनिवार्य होगा। इसके अंक वार्षिक परीक्षा में जुड़ेंगे। नवमी व दसवीं की परीक्षा सुबह 10 से 12 बजे तक होगी। वहीं ग्यारहवीं व बारहवीं की परीक्षा दोपहर 12.30 से 2.30 बजे तक होगी। इस संबंध में लोक शिक्षण संचालनालय ने दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं।

ऑनलाइन मिलेंगे प्रश्नपत्र
इस टेस्ट के लिए विद्यार्थियों को प्रश्नपत्र और उत्तरपुस्तिका भी दी जाएगी, जिसे वे घर ले जाकर भी हल कर सकते हैं। साथ ही स्कूल में भी टेस्ट आयोजित होंगे। इसके लिए डीपीआई ने ऑनलाइन कक्षाओं में पढ़ाए गए पाठ के आधार पर प्रश्नपत्र तैयार किए हैं। प्रश्नपत्र विमर्श पोर्टल पर अपलोड होंगे और सभी स्कूलों को ऑनलाइन भी प्रश्नपत्र भेजे जाएंगे। स्कूल प्राचार्य विद्यार्थियों को डाउनलोड कर प्रश्नपत्र देंगे। इसमें हर साल पूछे जाने वाले पारंपरिक या सीधे-सीधे प्रश्न नहीं पूछे जाएंगे, बल्कि तार्किक वैकल्पिक प्रश्न पूछे जाएंगे। विद्यार्थी पाठ्यपुस्तक से सवाल का जवाब दे सकते हैं।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned