सात फेरे लेने से पहले दूल्हे ने दुल्हन की अर्थी में दिया कंधा

लवकुशनगर के परसतपुर गांव की घटना
शादी के दिन ही बीमार दुल्हन की हो गई मौत

By: Dharmendra Singh

Updated: 10 Mar 2019, 04:42 PM IST

छतरपुर। लवकुशनगर थाना इलाके के परसतपुर गांव की 20 वर्षीय युवती की शादी हो रही थी। युवती की शादी बेहरपुरा गांव के युवक के साथ हो रही थी। शुक्रवार को तिलक का प्रोग्राम था, बारात घर पहुंचती उससे पहले ही शुक्रवार देर शाम दुल्हन अचानक बीमार हो गई। परिजनों से उसे पहले लवकुशनगर के अस्पताल में भीर्त कराया, लेकिन हालात गंभीर होने पर डॉक्टरों ने उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया। जिला अस्पताल में इलाज के दौरान ही शनिवार की दोपहर दुल्हन की हालात अचान ज्यादा बिगड़ गई और फिर मौत हो गई। दूल्हा मनोज को अपनी दुल्हन बीमार होने की जानकारी लगी तो वह शुक्रवार की रात में ही बारात को छोड़कर जिला अस्पताल पहुंच गया। यहां पर उसने पूरी रात दुल्हन पूजा की देखभाल की, पर वह उसे बचा नही सका। डॉक्टरों के मुताबिक दुल्हन की मौत ब्रेन हेमरेज से हुई। दुल्हन की जिस दिन डोली उठनी थी, उसी दिन उसकी अर्थी उठ गई। पूजा की मौत के बाद वह जिला अस्पताल के एक कोने में बैठकर बहुत देर तक रोता रहा। दूल्हा परिजनों के साथ दुल्हन के गांव पहुंचा और उसने जीवन संगनी न बन पाने वाली दुल्हन को कांधा देते हुए इस दुनिया से विदा किया।
मायके के बजाए दुनिया से हो गई विदाई
दुल्हान के पिता महादेव पटेल ने बताया कि वे बेटी की शादी बड़े ही धूमधाम से कराना चाहते थे। इसलिए बेटी को देने के लिए एक लाख रुपए के सोने और चांदी के गहने खरीदे। बेटी के नए जीवन में खुशियों की कल्पना करके परिवार के सदस्यों ने उसकी इक्छा के कपड़े व अन्य सामान की खरीदारी उसे बाजार ले जाकर कराई। पर अब बेटी की मौत से पूरे परिवार के अरमान धरे के धरे रह गए। अचानक उसके बीमार होने और फिर इस दुनिया से विदा हो जाने के कारण परिवार के लोग सदमें में हैं। जिस बेटी को बड़े अरमानों से उसके ससुराल विदा करने की तैयारी थी, उसे इस दुनिया से विदा करना पड़ा। शनिवार को हाथों में मेहंदी लगी दुल्हान की डोली उठने के स्थान पर उसकी अर्थी उठ गई।

Bridal deathBridal death
Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned