आमजन की समस्याओं का शीघ्र करें निराकरण: प्रभारी सचिव

Prompt problems of common people soon: Secretary in charge

छतरपुर. आयुक्त चिकित्सा शिक्षा विभाग और छतरपुर जिले के प्रभारी सचिव निशांत बरबड़े की अध्यक्षता में शनिवार को कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में जिलाधिकारियों के साथ बैठक की गई। उन्होंने बारी-बारी से शासन की उच्च प्राथमिकता वाली योजनाओं के क्रियांवयन की समीक्षा की। प्रभारी सचिव ने किसान ऋण माफी, रबी खरीफ फसलों का उपार्जन और किसानों को राशि भुगतान, विद्युत और खाद बीज की उपलब्धता, स्कूल शिक्षा का प्रबंधन, मध्यान्ह भोजन और साइकिल वितरण, गरीबों के आवास निर्माण की प्रगति, गौशाला की स्थिति, लोक सेवा प्रबंधन में लंबित शिकायतों के निराकरण, मनरेगा, वनाधिकार पट्टों का वितरण, आंगनबाड़ी कार्यक्रम का क्रियांवयन और पोषण आहार वितरण, पीओएस मीशन के उपयोग की जानकारी, छतरपुर जिले में सड़कों की स्थिति, ग्रामीण क्षेत्रों में औषधियों की उपलब्धता और स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति सहित जिला सरकार योजना के क्रियांवयन तथा अन्य विषयों की भी समीक्षा ली।
प्रभारी सचिव ने कहा कि अच्छा प्रशासन वही है, जो भविष्य की तैयारी आज से कर लें। उन्होंने कहा कि आमजन की कोई भी समस्या समाधान ऑनलाइन पोर्टल तक न जाए, सभी समस्याओं का मौके पर ही निराकरण हमारी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। विभागीय अधिकारी शासन की योजनाओं का बेहतर क्रियांवयन करना सुनिश्चित करें और शिकायतों का शीघ्र निराकरण हो।
बैठक में उपस्थित जिला पंचायत सीईओ हिमांशु चन्द्र ने बताया कि मध्यान्ह भोजन योजना के अंतर्गत शत प्रतिशत गैस कनेक्शन स्थापित हो चुके हैं। उन्होंने जिला पंचायत द्वारा चलाए जा रहे नदी पुनर्जीवन अभियान और उसके अंतर्गत बनाए गए खेत तालाब के बारे में भी प्रभारी सचिव को अवगत कराया। जिला प्रशासन की इस सफलता और कड़ी मेहनत को प्रभारी सचिव द्वारा सराहा गया।
कृषि के क्षेत्र में डेल्टा रैंकिंग में तीसरा स्थान प्राप्त करने पर साथ ही कायाकल्प योजना के अंतर्गत स्वास्थ्य विभाग द्वारा बेहतर प्रदर्शन करने पर उन्होंने जिला प्रशासन को बधाई दी। प्रभारी सचिव निशांत बरबड़े ने कहा कि विभिन्न विभागों द्वारा संचालित योजनाओं के बेहतर क्रियांवयन के लिए विभागीय समन्वय बनाकर कार्य करना अति आवश्यक है। विभागीय समंवय से डेटा को ब्लॉक एवं सेक्टर स्तर पर साझा करने में आसानी रहेगी। बैठक में कलेक्टर मोहित बुंदस, सीईओ जिला पंचायत हिमांशु चन्द्र, डीएफओ अनुपम सहाय सहित अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद थे।
उल्लेखनीय है कि राज्य शासन द्वारा जनसमस्याओं के निराकरण और योजनाओं के सुव्यवस्थित संचालन के लिए प्रत्येक जिले में प्रभारी सचिव की व्यवस्था लागू की गई है। मुख्य सचिव ने प्रभारी सचिवों को प्रत्येक माह अपने प्रभार के जिले का भ्रमण करने के निर्देश दिए हैं।

हामिद खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned