scriptस्कूटी का लालच देकर नाबालिग को देह व्यापार के धंधे में जबरन धकेलने वाली संतोषी तिवारी गिरफ्तार | Patrika News
छतरपुर

स्कूटी का लालच देकर नाबालिग को देह व्यापार के धंधे में जबरन धकेलने वाली संतोषी तिवारी गिरफ्तार

16 साल की नाबालिग बच्ची के अपहरण, तस्करी, देह व्यापार में झोंकने की साजिश की मुख्य सूत्रधार संतोषी तिवारी गिरफ्तार हो गई है। आरोपी महिला ने नाबालिग बालिका नई स्कूटी देने का प्रलोभन देकर कानपुर से छतरपुर लाकर बंधकर बनाया और उसे देह व्यापार के धंधे में जबरन धकेलने का प्रयास किया।

छतरपुरMay 14, 2024 / 10:30 am

Dharmendra Singh

prostitution

पुलिस गिरफ्त में आरोपी संतोषी तिवारी

छतरपुर. 16 साल की नाबालिग बच्ची के अपहरण, तस्करी, देह व्यापार में झोंकने की साजिश की मुख्य सूत्रधार संतोषी तिवारी गिरफ्तार हो गई है। आरोपी महिला ने नाबालिग बालिका नई स्कूटी देने का प्रलोभन देकर कानपुर से छतरपुर लाकर बंधकर बनाया और उसे देह व्यापार के धंधे में जबरन धकेलने का प्रयास किया। 18 मार्च को संतोषी तिवारी के विश्वनाथ कॉलोनी स्थित अडडे पर नाबालिग को गोली लगने के बाद साजिश का धीरे-धीरे खुलासा हुआ। पुलिस ने तीन आरोपियों हरि सिंह, रक्कू उर्फ राकेश गोस्वामी एवं मंजू पटेरिया को पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

एफआईआर के बाद फरार हो गई थी तिवारी


कोतवाली थाना अंतर्गत विश्वनाथ कॉलोनी में 18 मार्च 2024 की रात को नाबालिग किशोरी पर गोली चलाए जाने के मामले में नया खुलासा हुआ है। जिसके बाद महिला थाना पुलिस ने संतोषी तिवारी सहित उसके दो साथियों पर नाबालिग के अपहरण, छेड़छाड़, तस्करी और पॉक्सो एक्ट सहित विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया है। एफआईआर के बाद से संतोषी फरार हो गई। जिसे महिला थाना प्रभारी माध्वी अग्निहोत्री ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी ने पुलिस पूछताछ में अपनी करतूत कबूल कर ली है। संतोषी तिवारी पर थाना कोतवाली में 7 अपराध सहित उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश के विभिन्न जिलों में अनैतिक देह व्यापार सहित अन्य तरह के अपराध पंजीबद्ध हैं। वहीं इसके साथी हरि सिंह पर 4 अपराध, रक्कू उर्फ राकेश गोस्वामी पर 6 अपराध दर्ज है। जबकि गोली चलाने वाले मंजू पटेरिया पर 40 अपराध दर्ज हैं।

नाबालिग के सौदे की राशि को लेकर हुआ था विवाद


संतोषी तिवारी पत्नी महेंद्र तिवारी ने कानपुर की 16 वर्षीय किशोरी को बीते माह स्कूटी का लालच देकर व बहला फुसलाकर छतरपुर बुलाया। इसके बाद उसने नाबालिग को बंधक बनाकर गलत काम में उतार दिया। 18 मार्च को बड़ामलहरा का मंजू पटैरिया अपने साथी के साथ विश्वनाथ कॉलोनी स्थिति संतोषी के उड्डे पर आया और नाबालिग के साथ गलत काम करने के लिए अपने साथ ले जाने पर अड़ गया। सूत्रों के मुताबिक इसके लिए हुए सौदे की राशि को लेकर विवाद हो गया। जिस पर पटैरिया ने गोली चला दी। जो नाबालिग के पैर में लग गई।

काउंसलिंग में हुआ था नाबालिग के साथ हुई घटना का असली खुलासा


जब इस मामले में नाबालिग की वन स्टॉप सेंटर में काउंसलिंग कराई गई तो न केवल नाबालिग की आपबीती का सच सामने आ गया। बल्कि कोतवाली पुलिस का कारनामा भी उजागर हो गया। जिसने संतोषी को उसकी नानी बताया था। काउंसलिंग में नाबालिग ने खुलासा किया, कि संतोषी उसे बंधक बनाकर जबरन गलत काम कराने के लिए दबाव बना रही थी। संतोषी के घर में बाहरी लोगों का आना-जाना लगा रहता था। उसके घर पर हरि सिंह ने नाबालिग के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम भी दिया। इसमें संतोषी और उसके साथी रक्कू ने भी साथ दिया। आरोपी उसे देहव्यापार के धंधे में झोंकना चाहते थे। इसी के चलते मंजू पटैरिया 18 मार्च की रात उसे अपने साथ ले जाने के लिए आया था। लेकिन बात बिगड़ गई तो पटेरिया ने गोली चला दी।

Hindi News/ Chhatarpur / स्कूटी का लालच देकर नाबालिग को देह व्यापार के धंधे में जबरन धकेलने वाली संतोषी तिवारी गिरफ्तार

ट्रेंडिंग वीडियो