यूनिवर्सिटी में नौकरी के नाम पर छात्रा से दुष्कर्म की शिकायत, पुलिस जांच में जुटी

जिला कांग्रेस अध्यक्ष ने विवि के कुलपति पर भी लगाए मामले में शामिल होने का आरोप

Samved Jain

September, 1301:48 PM

Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

धर्मेंद्र सिंह,छतरपुर। महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड विश्वविद्यालय में होने वाली कर्मचारियों की भर्ती के मामले में एक नया खुलासा हुआ है। आरोप लगे हैं कि विवि में भर्ती करने के नाम पर एक छात्रा के साथ यौन शोषण किया गया है। छात्रा से दुष्कर्म करने वाले विवि के ही एक अधिकारी पर आरोप लगे हैं। छात्रा ने एक मोबाइल नंबर के साथ विवि के उस अधिकारी का जिक्र किया है, जिसने उसके साथ दुष्कर्म किया है। छात्रा ने एसपी को पत्र लिखकर इस मामले में कार्रवाई की मांग की है। साथ ही कहा है कि उसके साथ हुई घटना के कारण वह आत्मग्लानि महसूस कर रही है। इसलिए आत्महत्या करने की स्थिति तक पहुंच गई है।

 

उधर कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि छात्रा ने जो मोबाइल नंबर दिया है, वह विवि के कुलपति का है। जबकि कुलपति का कहना है कि उनका नंबर सभी जगह उपलब्ध रहता है। कई छात्र-छात्राएं अपनी समस्याओं को लेकर संपर्क करते रहते हैं। कुलपति का नंबर आसानी से कहीं भी मिल जाता है।


नवीन कॉलेज नौगांव के प्राचार्य एनपी निरंजन के माध्यम से विश्वविद्यालय के अधिकारियों तक लड़कियां पहुंचाई जा रही हैं। इसके लिए शहर की एक बड़ी कॉलौनी के 11 नंबर मकान में बड़ा सेक्स रैकैट संचालित किए जाने जैसे आरोप एसपी को भेजे गए एक पत्र में एक छात्रा ने लगाए हैं। पुलिस अधीक्षक विनीत खन्ना को 20 दिन पहले डाक से भेजे गए पत्र इस पत्र के बुधवार को सार्वजनिक होने के बाद हड़कंप मच गया। यह पत्र नौगांव निवासी एक छात्रा ने एसपी को भेजा है। पुलिस अभी पत्र की सत्यता की पुष्टि कर रही है। इस पत्र में तीन मोबाइल नंबर लिखे गए हैं। छात्रा का आरोप है कि 2 मोबाइल नंबर नवीन कॉलेज के प्राचार्य एनपी निरंजन का है। वहीं 1 मोबाइल नंबर महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड विवि के बड़े साहब का है। छात्रा ने इन मोबाइल नबंरों की कॉल डिटेल निकालने और मकान नंबर 11 में छापा मारने पर पूरे रैकेट का खुलासा होने का दावा भी पत्र में किया है।


पत्र हाथ में लगते ही कांग्रेस ने उठाई मांग :
एसपी को मिले छात्रा के कथित पत्र के हाथ लगते ही जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष मनोज त्रिवेदी ने विज्ञप्ति जारी कर नौगांव की छात्रा द्वार लगाए गए गंभीर आरोपों की जांच की मांग की है। मनोज त्रिवेदी का आरोप है कि छात्रा द्वारा पत्र में दिया गया नंबर महाराजा छत्रसाल ििववि के कुलपति प्रियवृत शुक्ला का है, पीडि़त लड़की के आरोप के अनुसार कुलपति के मोबाइल नंबर की कॉल डिटेल निकाली जानी चाहिए। इसके साथ ही पेप्टेक टाउन के मकान नंबर 11 में चलने वाले हाई प्रोफाइल सैक्स रैकेट के आरोप की भी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए। पुलिस द्वारा जांच में लेटलतीफी या कार्रवाई में कोताही की गई तो 29 सितंबर को मुख्यमंत्री के छतरपुर प्रवास पर उन्हें ज्ञापन सौंपा जाएगा।


प्राचार्य पर दर्ज है छेड़छाड़ का केस :
छतरपुर जिले में हरपालपुर स्थित सरकारी कॉलेज में प्रिंसिपल पद पर रहते हुए एनपी निरंजन पर फरवरी 2017 में एक छात्रा के यौन उत्पीडऩ का आरोप लगा था। उत्पीडऩ की रेकॉर्ड की गई वार्तालाप के आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज किया था। ये ऑडियो माइक्रो ब्लॉगिंग साइट व्हाट्सएप पर वायरल भी हुआ था। इस मामले में हरपालपुर पुलिस का कहना है कि , सरकारी राजा हरपाल सिंह कॉलेज, हरपालपुर, के तात्कालीन प्रिंसिपल एन पी निरंजन लंबे समय से एक लड़की को परेशान कर रहे थे। निरंजन उसे अकेले अपने घर आने और उससे संबंध विकसित करने के लिए कह रहे थे। जिसकी शिकायत पर केस दर्ज किया गया था।


आरोप निराधार है :
यह आरेाप निराधार है, मुझसे आज तक कोई भी लड़की भर्ती के मामले को लेकर नहीं मिली है। न ही हमने किसी को नौकरी लगवाने के लिए कहा है। आरोप गलत है।
प्रियव्रत शुक्ला, कुलपति, महाराजा छत्रसाल विश्वविद्यालय


मैंने किसी भी छात्रा को कॉल नहीं किया :
ऐसा कुछ भी मामला नहीं है,न ही मैं किसी रागनी को जानता हूं. न मेरे द्वारा किसी से नौकरी दिलाने के लिए बात हुई है। मेरे किसी भी मोबाइल नंबर से छात्रा से कोई बात नहीं हुई है। मेरे मोबाइल की कॉल डिटेल निकलवाई जा सकती है। किसी भी जांच का सामना करने के लिए तैयार हूं।


एनपी निरंजन, प्राचार्य,नवीन कॉलेज, नौगांव


आरोप गंभीर हैं, जांच कराई जा रही है :
पत्र में लिखे गए आरोप गंभीर है। इस मामले की तुरंत जांच कराई जाएगी। सबसे पहले पत्र की सत्यता की जांच कराई जाएगी। इसके बाद पीडि़त छात्रा को खोजा जाएगा। जब तक पीडि़त नहीं मिलती, तब तक एक पत्र के आधार पर पूरे मामले का स्पष्ट करना मुश्किल है। जांच के मुताबिक निश्चित ही आगे की कार्रवाई होगी।


विनीत खन्ना. पुलिस अधीक्षक


मुख्यमंत्री को सौपेंगे ज्ञापन :
छात्रा द्वारा लगाए गए आरोपों की उच्चस्तर पर जांच होनी चाहिए, पुलिस द्वारा जांच में लेटलतीफी या कार्रवाई में कोताही की गई तो 29 सितंबर को मुख्यमंत्री के छतरपुर प्रवास पर उन्हें इस मामले से अवगत कराने ज्ञापन सौंपा जाएगा।
मनोज त्रिवेदी, अध्यक्ष जिला कांग्रेस कमेटी

Samved Jain
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned