शिफ्टिंग की कवायद हुई फेल, बाइपास पर दोबारा सजने लगी थोक सब्जी-फल मंडी

27 फरवरी को एडीएम ने कृषि उपज मंड़ी सटई रोड पर शिफ्ट कराई थी दुकानें
जाम से राहत के लिए प्रशासन ने की थी कार्रवाई,दुकानदारों ने कृषि मंड़ी में सुविधाएं न होने का दिया हवाला

By: Dharmendra Singh

Published: 19 Mar 2020, 08:00 AM IST

छतरपुर। बाजार वाले इलाके में ट्रैफिक जाम की समस्या का समाधान करने के लिए प्रशासन ने द्वारा थोक सब्जी-फल मंड़ी की शिफ्टिंग की कवायद फेल साबित हो रही है। बाइपास रोड पर चल रही थोक सब्जी-फल मंड़ी को सटई रोड स्थित कृषि उपज मंड़ी में कराई गई शिफ्टिंग फेल हो गई है। दुकानदार वापस बाइपास पर कारोबार करने लगे हैं। सब्जी विक्रेताओं ने सटई रोड स्थित कृषि उपज मंड़ी में सुविधाएं न होने का हवाला देते हुए प्रशासन के फैसले का विरोध कर दिया है और वापस सड़क पर ही कारोबार शुरू कर दिया है।
जाम व गंदगी से निजात दिलाने हुई थी शिफ्टिंग
बाइपास रोड पर बगराजन मंदिर के पास और शहर के मुख्य बाजार में पुरानी गल्ला मंडी में फल और सब्जी की थोक दुकानें लगने से आए मुख्य बाजार में जाम और पुरानी गल्ला मंडी स्थित रामचरित मानस मैदान के पास गंदगी फैलने की समस्या थी। इस परेशानी को देखते हुए कृषि उपज मंडी में थोक फल-सब्जी कारोबारियों के लिए 67 दुकानें बनाई और आवंटित की गई थी। लेकिन दुकानें बनने के बाद भी सभी कारोबारी कृषि उपज मंड़ी नहीं जा रहे थे। इसलिए प्रशासन ने सख्ती दिखाते हुए 27 फरवरी को कृषि उपज मंड़ी में थोक दुकाने शिफ्ट करा दी। 27 फरवरी की सुबह 6 बजे छतरपुर एसडीएम प्रियांशी भंवर, कृषि उपज मंडी के अधिकारी सहित पुलिस बल मौके पर पहुंचा और सख्ती पूर्वक सभी थोक सब्जी विक्रेताओं को सटई रोड की मंडी शिफ्ट कराया। सटई रोड मंडी में कुछ दुकानदार नहीं जाना चाहते इसलिए उन्होंने विरोध करते हुए कलेक्टर को आवेदन देते हुए सौंरा रोड पर मंडी निर्मित कराने ज्ञापन दिया। इसके बाद यह मामला शांत हो गया और ठंडे बस्ते में चला गया। और अब फिर से दुकानें बाइपास पर लगने लगी हैं।
मंड़ी प्रशासन कर रहा सुविधाएं होने का दावा
सटई रोड स्थित कृषि उपज मंडी में 67 दुकानें बनाकर थोक सब्जी विक्रेताओं को आवंटित की गई हैं। मंडी सचिव शिवभूषण निगम ने बताया कि सभी दुकानों में बिजली कनेक्शन हैं और पानी के लिए पाइप लाइन भी डाली गई है। इतना ही नहीं सभी दुकानों के बाहर टीन शेड भी लगाए गए हैं। शिफ्टिंग कराते समय सफाई भी कराई गई। दुकानदार खुले में सड़क किनारे कारोबार कर रहे हैं। लेकिन मंड़ी में सुविधाएं न होने की बात कहते हैं। जबकि खुले मैदान से ज्यादा सुविधाएं मंड़ी में हैं।
इसलिए विरोध कर रहे व्यापारी
शहर के थोक सब्जी व्यापारियों का कहना है कि सटई रोड में पानी, बिजली सहित खाली जमीन की व्यवस्था नहीं है। साथ की कृषि उपज मंडी द्वारा परिसर में निर्मित दुकानें हम मुख्य सब्जी विक्रेताओं को आवंटित नहीं की गई हैं। शहर का बस स्टैंड भी करीब 10 किमी दूर पड़ता है। गांव से आने वाले सब्जी दुकानदारों को वहां आने में भी परेशानी होगी। इसलिए विभाग द्वारा नई सब्जी मंडी का निर्माण महोबा रोड स्थित सौंरा गांव के पास किया जाए। जब तक महोबा रोड की मंडी का निर्माण नहीं होगा तब तक सभी दुकानदार पुरानी गल्ला मंडी में ही व्यापार करेंगे।
फिर होगी कार्रवाई
कोरोना वायरस की ओर अभी प्रशासन का ध्यान है। हालात सामान्य होते ही इस मामले को लेकर कार्रवाई की जाएगी। कलेक्टर के सामने भी इस मुद्दे को रखा गया है। जल्द ही इस मामले में सख्ती से कार्रवाई की जाएगी।
शिवभूषण निगम, कृषि उपज मंडी सचिव

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned