सत्य-अहिंसा का उदघोष करती शहर में निकली शोभायात्रा

Neeraj Soni

Publish: Apr, 17 2019 06:55:22 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2019 06:55:23 PM (IST)

Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

छतरपुर। जैन धर्मावलंबियों के 24 वें एवं अंतिम तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी का 2618 वां जन्मकल्याणक बुधवार को पूज्य आचार्यश्री विनिश्चयसागर के ससंघ सानिध्य में विविध धार्मिक, सांस्कृतिक और आध्यात्मिक कार्यक्रमों के साथ हर्षोल्लास से मनाया गया। इस अवसर पर शहर के सभी जैन मंदिरों को मनमोहक रंग बिरंगी रोशनी से सजाया गया है। बुधवार को महावीर जन्म कल्याणक के पावन पर्व पर सुबह 8 बजे भगवान महावीर स्वामी की एक भव्य शोभायात्रा नगर के प्रमुख मागोज़्ं से निकाली गई। इस प्रसंग पर नगर में चल रहे चार दिवसीय आयोजन का समापन 18 अप्रेल को प्रात: डेरापहाड़ी पर श्रमण नेमिसागर महाराज के 30 वें मुनि दीक्षा दिवस समारोह के साथ होगा।
जैन समाज के डॉ. सुमति प्रकाश जैन ने बताया कि भगवान महावीर जन्मकल्याणक महोत्सव का शुभारंभ बुधवार सुबह 8 बजे कोतवाली के समीप स्थित श्री नेमिनाथ जिनालय से एक भव्य शोभायात्रा से हुआ। यह शोभायात्रा महल रोड, छत्रसाल चौक होते हुए मेला ग्राउंड स्थित श्री अजितनाथ जिनालय पहुंची। दूसरी तरफ डेरा पहाड़ी क्षेत्र की जैन समाज भी पूज्य आचार्य श्री विनिश्चय सागर की महाराज के ससंघ सानिध्य में श्रीजी की शोभायात्रा के साथ मेलाग्राउंड पहुंच कर इस मुख्य शोभा यात्रा में सम्मिलित हो गई। यहां श्री अजितनाथ जिनालय के दर्शन-वंदन और मेला ग्राउंड स्थित कीर्तिस्तंभ पर जैन पंचरंगा ध्वज फहराने के बाद यह शोभा यात्रा आकाशवाणी तिराहा, बस स्टेंड, चौक बाज़ार होते हुए पुन: श्री नेमिनाथ जिनालय पहुंचकर सम्पन्न हुई।
घर-घर उतारी गई श्रीजी की आरती :
इस शोभायात्रा में इस बार भी ड्रेस कोड के तहत पुरुष एवं युवा वगज़् सफेद कुर्ते- पैजामे व सिर पर सफेद टोपी, महिलाएं केसरिया साड़ी और बच्चे अपनी मोहक वेशभूषा में कतारबद्ध चलते हुए महावीर स्वामी के सन्देशÓ जियो और जीने दोÓ तथा 'अहिंसा परमो धरम:Ó का उदघोष करते एवं भगवान महावीर का जयकारा लगाते चल रहे थे। श्रीजी की आकर्षक पालकी, मधुर बैंड पार्टी, कतारबद्ध श्रद्धालु, फहराते जैन ध्वज लिए बच्चे इस शोभायात्रा की शोभा में चार चांद लगा रहे थे। जैन समुदाय के साथ साथ नगर के विभिन्न संगठनों ने शोभायात्रा का स्वागत किया एवं श्रीजी की आरती अपने-अपने घर के समक्ष की। शोभायात्रा के समापन के बाद बजरिया स्थित नवीन जैन धर्मशाला प्रांगण में सभी श्रद्धालुओं ने वात्सल्य भोज किया।शोभायात्रा के बाद जिला अस्पताल में मरीजों तथा वृद्धाश्रम में वुजुर्गों के स्वास्थ्यलाभ की कामना के साथ समाज के युवा सदस्यों ने फ ल वितरित किए। दोपहर साढ़े तीन बजे कोतवाली के पास स्थित जैन मन्दिर में श्रीजी का मंगल अभिषेक-पूजन धार्मिक विधि विधान के साथ हुआ। सायंकाल नगर के सभी जैन मन्दिरों में श्रीजी की संगीतमयी सामूहिक आरती विश्व कल्याण की कामना की के साथ की गई। शोभायात्रा के सफ ल और सानन्द समापन पर जैन समाज के अध्यक्ष जयकुमार जैन, महामंत्री स्वदेश जैन एवं समस्त कार्यकारिणी ने सभी सहयोगियों एवं श्रद्धालुओं का आभार ज्ञापित किया है।
दुनिया को दिया सत्य, अहिंसा व पंचशील का शाश्वत संदेश :
जिस युग में हिंसा, पशुबली और जाति-पांत के भेदभाव का बोलबाला था, उस युग में जन्मे भगवान महावीर ने पूरी दुनिया को सत्य और अहिंसा का शाश्वत सन्देश दिया।भगवान महावीर स्वामी ने विश्व को पंचशील के सिद्धांत दिए और उनको जीवन में उतारने की प्रेरणा दी, ताकि समस्त प्राणियों का कल्याण हो सके। Óजियो और जीने दोÓ का उद्घोष करने वाले महावीर स्वामी ने कहा था कि सभी आत्मा एक सी हैं, अत: हम दूसरों के प्रति वही व्यवहार रखें जो हमें स्वयं को पसंद हो।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned