सादगी, ईमानदारी के साथ काम करने वाला सांसद चाहिए क्षेत्र को

सादगी, ईमानदारी के साथ काम करने वाला सांसद चाहिए क्षेत्र को

Neeraj Soni | Publish: Mar, 17 2019 04:47:55 PM (IST) | Updated: Mar, 17 2019 10:44:40 PM (IST) Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

- पत्रिका अभियान : चेंजमेकर और वालेंटियर मीटिंग में शहर के लोगों ने लोकसभा चुनाव को लेकर की भागीदारी

छतरपुर। लोकसभा चुनाव के ठीक पहले लोगों का मिजाज भी निकलकर सामने आने लगा है। जिले के लोग इस चुनाव को लेकर अपना अलग खाका तैयार करने लग गए हैं। राष्ट्रीय मुद्दों के साथ स्थानीय मुद्दों पर भी इस चुनाव में चर्चा हो, इसी को लेकर पत्रिका अभियान के तहत पत्रिका के चेंजमेकर और वालेंटियर सहित स्थानीय जागरुक नागरिकों ने रविवार को एक बड़ी बहस छेड़ी। इस बैठक में हिस्सा लेने वाले लोगों ने जोर दिया कि इस बार क्षेत्र से ऐसा प्रत्याशी चुना जाए जो स्थानीय हो और क्षेत्र के विकास की बात करें।

बहस में हिस्सा लेते हुए व्यापारी नेता और वालेंटियर लालू सिंघी ने कहा कि केवल विकास करने वाला व्यक्ति ही क्षेत्र का प्रतिनिधि बने। देश को मजबूती की ओर ले जाने वाले सरकार हमारे देश में बननी चाहिए। समाजसेवी हरिप्रकाश खरे दद्दे ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों के शासन काल में जो विकास की योजनाएं और मुद्दे यहां आए थे, वे सरकार बदलने के बाद यहां से पलायन कर गए हैं।

समाजसेवी एवं वालेंटियर पवन मिश्रा ने कहा कि छतरपुर जिले को एक चारागाह बना दिया गया है। राजनैतिक पार्टियां ऊपर से प्रत्याशी लेकर आती हैं, उनको चुनाव जिता दिया जाता है और वो अपने निहित स्वार्थों को पूरा करने के बाद पलायन कर जाते हैं। पिछले 70 सालों में इस क्षेत्र का नेतृत्व बाहरी व्यक्ति के हाथ में दिया जाता रहा है। स्थानीय उम्मीदवार नहीं होने के कारण बुंदेलखंड में विकास नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि हमारा उम्मीदवार इस बार ऐसा हो जो सब्जी लेने न जाए और न ही अपनी चप्पल सुधरवाकर सादगी का परिचय दे, बल्कि ऐसा प्रतिनिधि हो जो क्षेत्र के विकास की चिंता करे। चेंजमेकर अंकुर यादव ने कहा कि लोकसभा चुनाव का दायरा बड़ा होता है। इसीलिए बेसिक और छोटे मुद्दों की बात भी होनी चाहिए। ऐसे विमर्श ही छोटे मुद्दों की तरफ ध्यान खीचतें हैं। हमारे सांसद-मंत्री चौपाल लगाकर छोटी समस्याओं पर काम करने की जगह बड़े प्रोजेक्टों पर काम किया जाना चाहिए था। सादगी की ईमेज बनाने की जगह काबिल लोग इस क्षेत्र से निकलकर आएं। स्थानीय व्यक्ति होगा तो यहां की समस्याओं और जरूरतों की तरफ उसका ध्यान होगा। पार्षद अखिलेश उर्फ डालडे मातेले ने कहा कि सहज और सुलभ उपलब्धता वाले प्रतिनिधियो ंके हाथ इस क्षेत्र की बागडोर दी जानी चाहिए। सुदेश जैन ने कहा कि सरकार कोई भी आए-जाए लेकिन विकास का काम नहीं रुकना नहीं चाहिए। एनटीपीसी का प्रोजेक्ट इस क्षेत्र को मिला था, लेकिन उसको रोक दिया गया। करोड़ों रुपए जिस प्रोजेक्ट में खर्च हो गए, उसे रोक दिए जाने से देश का धन बर्बाद होता है। कोई भी व्यक्ति सांसद बनकर आए, उसकी प्राथमिकता क्षेत्र का विकास होना चाहिए। नवनीत जैन ने कहा कि प्रतिनिधि कोई हो, कैसा हो, कहीं का भी हो वे ऐसे हो जो इस क्षेत्र का विकास करें। बाहरी हो या स्थानीय वे केवल काम करने वाले हो। राकेश तिवारी ने कहा कि देश में ऐसी सरकार बने जो वैमनस्यता नहीं फैलाए। राष्ट्रीय सुरक्षा ही सर्वोपरि होने चाहिए। आपस में बांटने वाले लोग न हो। चैंजमेकर गिरजा पाटकार ने कहा कि काम करने वाले लोगों को मौका मिलना चाहिए। अभिलेख खरे ने कहा कि जिस तरह से 10 साल से सांसद और केंद्रीय मंत्री की कोई बड़ी उपलब्धि नहीं हुई है। जनप्रतिनिधियों को सामाजिक क्षेत्र में आकर भागीदारी करनी चाहिए। इसलिए इस बार बदलाव होना चाहिए। प्रद्युम्म ने कहा कि जो देश और क्षेत्र के विकास में काम करना चाहिए। इस मौके पर राजेंद्र अग्रवाल पप्पू, देवेंद्र अनुरागी, लखन राजपूत, शंभु कुशवाहापुष्पेंद्र चौरसिया सहित अनेक लोगों इस बहस में हिस्सा लिया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned