scriptSitting capacity 250 in Girls College, 700 girl students taking exams | कन्या महाविद्यालय में बैठक क्षमता 250, परीक्षा दे रही 700 छात्राएं | Patrika News

कन्या महाविद्यालय में बैठक क्षमता 250, परीक्षा दे रही 700 छात्राएं


तीन में से दो वाटर कूलर खराब, गर्मी से जूझ रही छात्राएं
महाराजा कॉलेज के विश्वविद्यालय में विलय के बाद गल्र्स कॉलेज बना जिले का नोडल कॉलेज

छतरपुर

Updated: April 05, 2022 01:50:48 pm

छतरपुर। महाराजा छत्रसाल बुन्देलखंड विश्वविद्यालय की बीए, बीएससी की परीक्षाओं में अव्यवस्थाएं देखने को मिल रही हैं। परीक्षा केन्द्र बनाए गए शहर के नोडल कॉलेज शासकीय कन्या महाविद्यालय में क्षमता से अधिक छात्राएं परीक्षा दे रही हैं। आलम यह है कि छात्राओं को गैलरी में बैठकर परीक्षाएं देना पड़ रही हैं। कूलर-पंखों के अभाव में छात्राओं को गर्मी से जूझना पड़ रहा है। जब शहर के नोडल कॉलेज में ये हाल हैं तो आप अंदाजा लगा सकते हैं कि जिले के अन्य कॉलेजों की क्या स्थिति होगी।
तीन गुना ज्यादा छात्राएं दे रही परीक्षा
तीन गुना ज्यादा छात्राएं दे रही परीक्षा
तीन गुना ज्यादा छात्राएं दे रही परीक्षा
शहर के शासकीय कन्या महाविद्यालय जो कि जिले का नोडल कॉलेज भी है। यहां पर छात्राओं के बैठने के लिए समुचित व्यवस्था नहीं है। पिछले लगभग तीन सालों से कॉलेज में विद्यार्थियों व छात्र संगठनों की मांग पर सीटें तो लगातार बढ़ाई गईं लेकिन व्यवस्थाओं के लिए न तो छात्र संगठन आगे आए और न ही छात्राओं की परेशानी को देखकर प्रबंधन ने कोई ठोस कदम उठाए। अब आलम यह है कि लगभग 250 से 300 की बैठक क्षमता वाली व्यवस्था में लगभग 750 छात्राएं परीक्षा दे रही हैं। 42 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान में छात्राओं को ऐसी जगह गैलरी में बैठाया गया है जहां पर पंखे भी नहीं है। एक अशासकीय महाविद्यालय में भी छात्राओं का परीक्षा केन्द्र बनाया गया है जबकि सवाल यह उठता है कि अगर जिला मुख्यालय पर स्थित नोडल शासकीय महाविद्यालय में ही छात्राओं के लिए पर्याप्त व्यवस्थाएं नहीं हैं तो फिर तहसील स्तर पर संचालित हो रहे कॉलेजों की क्या स्थिति होगी।
तीन में से दो वाटर कूलर खराब
महाविद्यालय में कहने को तो तीन वाटर कूलर लगे हुए हैं जिनमें से दो खराब स्थिति में है। महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. एलएल कोरी ने जानकारी देते हुए बताया कि मटके रखवाकर छात्राओं के लिए पानी की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा महाविद्यालय की सुरक्षा व्यवस्था भी भगवान भरोसे है। इस वर्ष परीक्षार्थियों की संख्या अधिक होने के कारण विश्वविद्यालय प्रबंधन द्वारा अन्य महाविद्यालयों के भवनों में परीक्षाएं कराई जा रही हैं। कन्या महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी प्रो. बृजेश कुमार प्रजापति ने बताया कि प्राचार्य ने दीवारों पर आपातकालीन कंट्रोल रूम में नंबर चस्पा करवाए हैं ताकि किसी परीक्षार्थी को समस्या होने पर इन नंबरों पर बात कर अपनी समस्या का समाधान करवा सके।
इनका कहना है
कन्या महाविद्यालय के लिए एक उपकेन्द्र भी बनाया गया है ताकि समस्या न हो। आपके माध्यम से जिन अव्यवस्थाओं की जानकारी मिली है, उनकी मैं स्वयं जांच करूंगा। सुरक्षा व्यवस्था के लिए संबंधित थाने को पत्र लिखा जाएगा।
डॉ पीके पटैरिया, परीक्षा नियंत्रक
महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड विश्वविद्यालय, छतरपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Presidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस के निवास पहुंचे एकनाथ शिंदेMaharashtra Political Crisis: उद्धव के इस्तीफे पर नरोत्तम मिश्रा ने दिया बड़ा बयान, कहा- महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा का दिखा प्रभावप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने MSME के लिए लांच की नई स्कीम, कहा- 18 हजार छोटे करोबारियों को ट्रांसफर किए 500 करोड़ रुपएDelhi MLA Salary Hike: दिल्ली के 70 विधायकों को जल्द मिलेगी 90 हजार रुपए सैलरी, जानिए अभी कितना और कैसे मिलता है वेतनKangana Ranaut ने Uddhav Thackeray पर कसा तंज, कहा- 'हनुमान चालीसा बैन किया था, इन्हें तो शिव भी नहीं बचा पाएंगे'उदयपुर हत्याकांड: आरोपियों के कराची कनेक्शन पर पाकिस्तान की बेशर्मी, जानिए क्या बोलाUdaipur Murder: उदयपुर में हिंदू संगठनों का जोरदार प्रदर्शन, हत्यारों को फांसी दो के लगे नारे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.