मां के बैंक खाते में जमा 2 लाख व 4 एकड़ जमीन हड़पने के लिए बेटे बहू ने मां को पीटा


सिर, कमर व पैर में चोट के चलते मां को जिला अस्पताल में कराना पड़ा भर्ती
तीनों बेटों को बराबर देना चाहती महिला, लालच में बड़े बेटे ने की शर्मनाक करतूत

By: Dharmendra Singh

Published: 11 Oct 2021, 09:46 PM IST

छतरपुर। अपनी संतान को जन्म देने वाली मां अपनी संतान को कलेजे के टुकड़े की तरह सहेजकर पालती है। ताकि बुढापे में बेटा उसका सहारा बने। लेकिन शहर के पुरानी गल्ला मंड़ी इलाके में एक कलयुगी बेटे बहू ने मां के बैंक खाते में जमा 2 लाख और गांव की 4 एकड़ खेती के लालच में मारपीट कर दी। मारपीट तो पहले भी की गई, लेकिन इस बार लालच में अंधे हो चुके बेटे बहू ने मां को ऐसा मारा कि उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराना पड़ गया। सिर, कमर और पैर में चोटें आई हैं।

सोमवार की दोपहर 12 बजे करीब कोतवाली इलाके के गल्ला मंड़ी से 60 वर्षीय गुलाब बाई कुशवाहा को घायल अवस्था में जिला अस्पताल लाया गया। सिर,कमर और पैर में चोट के कारण अस्पताल में भर्ती महिला दर्द से कराह रही है। आखों में आंसू लिए बुजुर्ग महिला के शरीर के साथ उसका विश्वास और आत्मा भी घायल हैं। पूछने पर बताती है कि बहू सोना और बड़ा बेटा कृपाल कुशवाहा ने मारपीट की है। गुलाबबाई का आरोप है कि मेरी बड़ी बहू और बेटा मुझसे मेरे खाते में जमा 2 लाख रुपए और गांव में खेती की 4 एकड़ जमीन मांग रहे हैं। तो मैंने उन्हें यह सब देने से मना कर दिया जिसके चलते पहले तो वह झगड़े और विवाद बढ़ गया तो दोनों ने मिलकर मेरे साथ मारपीट कर दी।

बुुर्जुग महिला कराहते हुए कहती है कि मेरे तीन बेटे हैं, कृपाल, रामनरेश और विनोद। मेरी प्रॉपर्टी मेरा पैसा मेरे मरने के बाद मेरे इन्हीं बेटों का तो है, पर बड़ा बेटा यह सारा अकेले हड़प लेना चाहता है। मैने उससे कह दिया किसी एक को नहीं, मैं सबको बराबर दूंगी। मेरे बाद तुम तीनों में ही तो बंटना है। गुलाब बाई का ये भी आरोप है कि उनके साथ मारपीट पहली बार की गई है। इसके पहले भी कई बार अभद्रता व मारपीट की गई। लेकिन इस बार अस्पताल आने की नौबत आ गई। मारपीट के दौरान गिरने से कमर और पैर में चोटें आईं है। अस्पताल के बिस्तर पर कराहती मां बेटे की शर्मनाक करतूत से दुखी तो है, लेकिन उसके बावजूद मां तो मां है। अपने नालायक बेटे के खिलाफ कार्रवाई नहीं चाहती है। भावुक होकर कहती है अपने बेटे के खिलाफ कार्रवाई कैसे कराऊं। मंझला बेटा बाहर से आएगा तब उसे बताउंगी, बड़ा बेटा भी तो अपना ही खून ह, तो कैसे रिपोर्ट कर दूं।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned