कमिश्नर ने मनरेगा योजना के कार्यों का किया निरीक्षण

The commissioner inspected the works of the MNREGA scheme

बड़ामलहरा . आप लोग शहर और महानगर में मजदूरी करने न जाएं। सरकार आपको आपके गांव में ही काम देगी। कोरोना वायरस संक्रमण के बाद शहरों से पलायन कर घर आये ग्रामीणों को समझाते हुए संभागायुक्त अजय सिंह गंगवानी ने यह बात कही। उन्होनें पंचायती निर्माण कार्यों में अधिक से अधिक मजदूरों को काम देने पर बल दिया। निर्माण कार्य मेंं नए मजदूरों को प्राथमिकता के तौर पर काम देेंने की बात कही।
कोरोना -19 एवं मनरेगा योजना की समीक्षा बैठक में शामिल होने वह छतरपुर जा रहे थे। रास्ते मे सागर-छतरपुर मुख्य मार्ग स्थित ग्राम घिनौची व मुंगवारी में मनरेगा योजना अंतर्गत चल रहे कार्यों का निरीक्षण किया। जनपद क्षेत्र की ग्राम पंचायत घिनौची में मनरेगा योजना अंतर्गत 10.80 लाख रुपये गेवियन संरचना का निर्माण किया जा रहा है। सुबह 10.25 बजे संभागायुक्त निर्माण स्थल डोडा नाला पहुंचे। 10 मिनिट तक मजदूरों से उन्होंने बातचीत की और कहा कि, मनरेगा योजना के अंतर्गत सरकार ने 190 रुपये प्रति दिन के हिसाब से मजदूरी तय की है।
सरपंच पार्वती रजक, सचिव व अभिषेक जैन भी वहां उपस्थित थे। सहायक सचिव बालमकुंद राजपूत ने जानकारी में बताया कि, मृदा संरक्षण व जल वहाव की गति नियंत्रण हेतु नाला पर गेवियन संरचना का निर्माण कराया जा रहा है। 36 प्रवासी मजदूर परिवार शहरों से गांव लौटे है। बच्चों को छोड़कर इनमें 80 मजदूर हैं। हाल में 20 प्रवासी मजदूरों को काम दिया गया है। जॉब कार्ड हीन परिवारों के कार्ड बनाने की प्रक्रिया भी जारी है। ग्राम पंचायत मुंगवारी में मनरेगा योजना से खेत तालाब निर्माण कराये जा रहे है। सुबह 10.40 बजे उन्होंने निर्माण कार्य निरीक्षण किया। खेत तालाब योजना हितग्राही चिटू अहिरवार से मुलाकात की और निर्माण संबंधी गतिविधि को जाना। निर्माण स्थल पर सरपंच कैलाश लोधी उपस्थित थे। सचिव नरेंद्र जैन बताते है कि, पंचायत में मनरेगा योजना से खेत तालाब निर्माण कार्य कराये जा रहे है। हितग्राही मूलक योजना में अधिक से अधिक मजदूरों को काम देने के प्रयास में लगे है। 40 प्रवासी परिवारों में 80 मजदूरों की संख्या है। जिनमें 50 मजदूरों को काम पर लगाया गया है। इसके अलावा पंचायत में एक अन्य योजना के तहत 13 हेक्टेयर रकवा में अनाज मंडी का निर्माण हो रहा है। 10 मिनिट तक पंचायत में रुकने के उपरांत संभागायुक्त छतरपुर रवाना हो गए। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह, जिला पंचायत सीईओ हिमांशुचंद्र, जिला परियोजना अधिकारी मनरेगा चक्रेश जैन के अलावा एसडीएम एनआर गौंड, सीईओ अजय सिंह, तहसीलदार कमलेश गुप्ता व सहायक यंत्री एनके शर्मा सहित अन्य प्रशानिक अमला मौके पर उपस्थित था।

हामिद खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned