थम जाएंगें स्कूल बसों और यात्री बसों के पहिए, मच जाएगा वाहनों का टोटा

- सूची तैयार होने के बाद भेजे जा रहे नोटिस
- ३ से थम जाऐंगे ११५० वाहनों के पहिए,

By: Unnat Pachauri

Published: 04 Apr 2019, 05:00 AM IST

छतरपुर। बसों के सफर करने वाले हो या फिर स्कूली छात्र, उनके लिए मई माह कापहला सप्ताह मुसीबत भरा साबित होने वाला है। जिले और शहर की सड़कों से यात्री बसें एकाएक गायब हो जाएंगीं। किसी को कहीं आना हो या फिर कहीं जाना हो, तो या तो उसे प्राईवेट टैक्सी, ऑटो करनी होगी या फिर ट्रेन या किसी अन्य साधन से गंतव्य जाना होगा। यही हाल स्कूल बसों का भी होगा। पालकों को स्वयं बच्चों को छोडऩे स्कूल जाना पड़ेगा। ये हालात इसलिए होंगे कि आगामी ६ मई होने वाले चुनाव में कर्मचारियों को पोलिग बूध तक पहुंचे और पोलिंग सामग्री को पहुंचाने के लिए बडी संख्या में बसों और कारों की आवश्यकता होगी।
ंलोकसभा चुनाव में मतदान कर्मी मतदान केंद्रों तक पहुंच सकें, इसके लिए आरटीओ और चुनाव में वाहन व्यवस्था प्रभारी एसएमआर आदित्य सोनकिया ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। बस ऑपरेटर्स की सूची तैयार करने के बाद उन्हें नोटिस भेजे जाने की प्रक्रिया शुरू की जा रही है। जल्द ही नोटिस तामील कराए जाऐंगे। जानकारी के अनुसार करीब ४२५ से ४५० बसों का अधिग्रहण किया जाना है। जिसके लिए ४५० बसों के नंबर के आधार पर ऑपरेटर्स को नोटिस जारी किए जाऐंगे।
नोटिस में लोकसभा चुनाव के लिए बसों के अधिग्रहण समेत यह भी जानकारी दी जाएगी कि कि बसों का अधिग्रहण ३ मई शाम तक होगा और ६ मई की रात को बसें अधिग्रहण मुक्त कर दी जाएंगी। बसों के अधिग्रहण से यात्रियों को परेशानी न हो, इसके लिए प्रत्येक रूट में चलने वाली बसों की सूची तैयार की गई है। प्रत्येक रूट पर 20 से 40 प्रतिशत बसों को छोडऩे का प्लान बनाया गया है।

कारों को भी किया जाएगा अधिग्रहित
लोकसभा चुनाव के लिए बसों के अधिग्रहण के साथ-साथ चुनाव अधिकारी और पुलिस व्यवस्था के लिए बडी संख्या में कारों की आवश्यकता है। जिसके लिए ट्रैवल्स संचालकों को नोटिया दिया जाएगा। जिले में अधिकारी कर्मचारी व पुलिस के लिए करीब ७०० चार पहिया वाहनों की जरूरत है। उनमें से मुख्य रूप से ४ से ६ मई को इन वाहनों की जरूरत पड़ेगी। लेकिन अधिकांस वाहनों का आवश्यकता के अनुसार आगे-पीछे अधिग्रहण किया जा सकता है।

इनका कहना है
चुनाव के लिए करीब ४२५-४५० बसों का अधिग्रहण किया जाना है। इसके लिए ४५० बस ऑपरेटर्स को अधिग्रहण नोटिस करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।
विक्रमजीत सिंह आरटीओ

इनका कहना है
लोकसभा चुनाव के लिए बसों और चार पहिया वाहनों की आवश्यकता होगी। जिसमें करीब ४२५ से ४५० बसों और करीब ७०० चार पहिया वाहनों की जरूरत है। इसके लिए नाटिश तैयार किए जा रहे हैं, जल्द ही वाहन संचालकों को नोटिश तामील कराए जाऐंगे।
आदित्य सोनकिया, एसएमआर, चुनाव वाहन व्यवस्था प्रभारी

यह है स्थिति
अधिग्रहण शुरू होगा- ३ मई
अधिग्रहण मुक्त होंगी बसें- ७ मई
कुल बसों की आवश्यकता- ४२५
ऑपरेटर्स को नोटिस- ४५०
इन बसों का अधिग्रहण- यात्री बसें, स्कूल बसें, कॉलेज बसें, विभिन्न संस्थानों की बसें।

Unnat Pachauri
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned