वर्ष 2035 के मास्टर की बन रही रुपरेखा, शहर के अंदर 12 से 35 मीटर होगी सड़के

शहर के चार प्रमुख मार्गो पर बनेगा स्थानीय बस स्टैंड, मुख्य बस स्टैंड अलग बनेगा
शहर के आसपास के 16 गांव होंगे शामिल, स्टेडियम के लिए भी जमीन होगी चिंहित

By: Dharmendra Singh

Published: 03 Jan 2021, 07:10 PM IST

छतरपुर। शहर के विकास के लिए वर्ष 2035 के मास्टर प्लान का प्रारुप बनाया जा रहा है। जिला स्तरीय समिति ने 14 साल बाद की आबादी, संसाधन गतिशीलता, असंगत एवं अकार्यक्षम भूमि का उपयोग, जल स्त्रोतों का विकास एवं संरक्षण, वर्तमान संदर्भ में यातायात के प्रस्ताव, पर्यावरण संरक्षण एवं प्रबंधन, नगरों का बहुआयामी केन्द्र के रूप में विकास तथा पूर्व विकास योजनाओं के क्रियान्वयन में अब तक आई समस्या एवं उनके निराकरण को ध्यान में रखते हुए मास्टर प्लान का प्रारुप तैयार करने पर मंथन किया गया है।

शहर की इन सड़कों का होगा चौड़ीकरण
जिला स्तरीय समिति में छतरपुर शहर के कलेक्टर बंगला से संकट मोचन पहाड़ी की चैड़ाई 35 मीटर, अस्पताल चैराहे से राजमहल तक 18 मीटर, राजमहल से थाना तक 12 मीटर तथा थाना से गांधी चौक कोतवाली तक 12 मीटर करने के प्रस्ताव पर सहमति बनी है। इसी तरह बस स्टैण्ड से उप डाकघर, उप डाकघर से गांधी चौक, गांधी चैक से गोवर्धन टाकीज तथा गोवर्धन टाकीज से संकट मोचन मंदिर तक प्रस्तावित मार्ग की चैड़ाई 18-18 मीटर करने पर सहमति दी गई। इसी तरह वहीं सरानी मार्ग गांधी चौक से वर्तमान गल्ला मण्डी तक 12 मीटर, गल्ला मण्डी से औद्योगिक क्षेत्र बैलगाड़ी प्रोजेक्ट तक 18 मीटर, किशोर सागर मार्ग स्थित हनुमान मंदिर से राजमहल तक और पोस्ट ऑफिस राजमहल तक 18-18 मीटर, खटकयाना मार्ग को 12 मीटर, छत्रसाल चौक से न्यायालय तक 18 मीटर, तहसील कार्यालय से जेल चौराहे तक 18 मीटर तथा महाराजा कॉलेज मार्ग की चौड़ाई 30 मीटर प्रस्तावित करने पर सहमति दी गई।

पठापुर समेत 16 गांव जुड़ेगे
छतरपुर विकास योजना 2035 के लिए निवेश क्षेत्र के अंतर्गत नगर पालिका क्षेत्र सहित कुल 16 ग्राम सम्मिलित किए गए है, जिसका क्षेत्रफल 13030.45 हेक्टेयर प्रस्तावित है। पठापुर को शहर से जोडऩे का प्रस्ताव बनाया जा रहा है। इसके साथ ही यूनिवर्सिटी एवं गल्र्स कॉलेज के लिए भूमि का चिन्हांकन करने सहित अन्य बिंदुओं पर विचार विमर्श हुआ। विभागीय अधिकारियों से विभागवार सुझाव भी प्राप्त किए गए। बैठक में बताया गया कि नगर तथा ग्राम निवेश द्वारा छतरपुर अमृत शहर में शामिल है इसलिए पुन: अमृत गाइडलाइन के द्वारा छतरपुर विकास योजना 2035 प्रारूप प्रस्तुतीकरण का मास्टर प्लान बनाया जा रहा है।

बनेंगे चार नगरीय बस स्टैंड
मास्टर प्लान के मुताबिक शहर के प्रमुख चार रोड सहित महोबा रोड पर बस स्टैण्ड के लिए भी भूमि आरक्षित किए जाने के प्रस्ताव पर विचार विमर्श हुआ। पुराने बस स्टैण्ड डीओटी को देने पर भी सहमति बनी है। विकास योजनाओं की क्रियान्वयन की क्रमावस्था के तहत क्षेत्रीय बस स्टैंड, नगरीय बस स्टैंड बनाने पर भी चर्चा की गई है। इसके साथ ही जिला स्तरीय समिति अनुपयोगी भूमि उपयोग के संदर्भ में सहमति बनी कि छतरपुर शहर के आरंभ से अनाज एवं फल मण्डी, परिवहन अभिकरण, फर्नीचन दुकानें, कबाड़ी बाजार, तहसील कार्यालय परिसर के लिए खाली भूमि का उपयोग किया जाए। इसी तरह जो कृषि भूमि है वहां स्टेडियम के लिए भूमि उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया। इसके अलावा प्रमुख मार्गों पर स्टेडियम ग्राउण्ड के लिए भूमि की उपलब्धता सुनिश्चित करने के प्रस्ताव पर सुझाव प्राप्त किए गए।
छतरपुर विकास योजना 2035 के प्रारूप प्रस्तुतीकरण के बिंदुओं पर जिला स्तरीय समिति के सदस्यों द्वारा विचार विमर्श एवं मंथन किया गया और छतरपुर शहर के समृद्धशील विकास के निर्णय लिए गए। मंथन में जिला पंचायत अध्यक्ष कलावती अनुरागी, छतरपुर विधायक आलोक चतुर्वेदी, सांसद प्रतिनिधि धीरेन्द्र नायक सहित सीएमओ छतरपुर, जीएम डीआईसी, ईई पीडब्ल्यूडी, जिला योजना एवं सांख्यिकी विभाग तथा नगर एवं ग्राम निवेश विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned