scriptपर्यावरण स्वीकृति नहीं, फिर भी मशीनों से हो रहा रेत का उत्खनन | Patrika News
छतरपुर

पर्यावरण स्वीकृति नहीं, फिर भी मशीनों से हो रहा रेत का उत्खनन

धसान नदी में टीला और अलीपुरा रेत घाट की पर्यावरण स्वीकृति नहीं है। ऊपर से लिफ्टर व मशीनों से रेत का उत्खनन किया जा रहा है। इसके साथ ही करारागंज सहित छह अन्य घाटो पर मशीनो से उत्खनन हो रहा है। किसानो के खेत से जो डंफर और ट्रैक्टर निकल रहे, उसका किसान विरोध कर रहे है, लेकिन उनकी कोई सुन ही नहीं रहा है।

छतरपुरMay 31, 2024 / 10:58 am

Dharmendra Singh

illegal mining

करारागंज में मशीन से उत्खनन करते हुए

छतरपुर. मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव की ताकीद के वाबजूद अवैध उत्खनन पर रोक नहीं लग पा रही है। धसान नदी में टीला और अलीपुरा रेत घाट की पर्यावरण स्वीकृति नहीं है। ऊपर से लिफ्टर व मशीनों से रेत का उत्खनन किया जा रहा है। इसके साथ ही करारागंज सहित छह अन्य घाटो पर मशीनो से उत्खनन हो रहा है। किसानो के खेत से जो डंफर और ट्रैक्टर निकल रहे, उसका किसान विरोध कर रहे है, लेकिन उनकी कोई सुन ही नहीं रहा है।

लोक सुनवाई कैंप

24 मई को पर्यावरण स्वीकृति हेतु लोक सुनवाई कैंप तहसील प्रांगण में लगाया गया। इसमें टीला और अलीपुरा खदानों की स्वीकृति का उल्लेख था, अभी तक पर्यावरण स्वीकति मिली नहीं है। लेकिन घाटो पर मशीनों के द्वारा सीधे नदी से बालू निकालकर प्रतिदिन सैकड़ो ट्रैक्टर रेत का परिवहन हो रहा है। न केवल इससे पर्यावरण को नुकसान है बल्कि धसान नदी के इस क्षेत्र के अस्तित्व पर संकट आ गया है।

घाट के नाम पर नदी में उतार रहे मशीनें


अलीपुरा और टीला घाट का ठेका हुआ है। लेकिन बिना पर्यावरण स्वीकृति के मशीनों से खनन नहीं कर सकते है। कंपनी नदी के बाहर मशीनें लगा सकती है, लेकिन नदी के पूरे घाट पर दिन रात मशीनों से रेत निकाली जा रही है। वहीं घाट से सडक़ के बीच पडऩे वाली जमीनों के किसान मानसून आने के पहले खेतों को तैयार करना चाहते है लेकिन बड़े बड़े डंफर और ट्रैक्टर दिन रात उनके खेतों को रौंदते हुए बालू का परिवहन कर रहे है।

इनका कहना है


अभी घाट नहीं चल रहे हैं, पर्यावरण स्वीकृति के लिए माइनिंग ने जनसुनवाई करवाई है। हमने प्रतिवेदन भेजा है। दो बार टीम भेज चुके वहां कुछ नहीं मिला आपके द्वारा जानकारी मिली है माइनिंग को जानकारी भेज कर जॉइंट इंस्पेक्शन करते हैं।
विशा माधवानी एसडीएम नौगांव
अभी अवकाश पर हूं, दो दिन बाद थाना पहुंचूंगा। माइनिंग विभाग कार्रवाई करे, हम एफआईआर दर्ज करेंगे।
डीडी शाक्य थाना प्रभारी अलीपुरा

Hindi News/ Chhatarpur / पर्यावरण स्वीकृति नहीं, फिर भी मशीनों से हो रहा रेत का उत्खनन

ट्रेंडिंग वीडियो