तीन भाइयों ने दमोह के 4 दोस्तों के साथ मिलकर की थी विधायक के प्रतिनिधि की हत्या

पड़ोस के लोगों से एक साल पहले सीसी रोड डालने को लेकर विवाद से बनी बुराई
हत्या में इस्तेमाल किए गए हथियार जब्त, पड़ोस के तीन भाई और चार दोस्त गिरफ्तार

By: Dharmendra Singh

Published: 28 Feb 2021, 07:58 PM IST

छतरपुर। गढ़ीमलहरा थाना इलाके के गढ़ी गांव में 17 फरवरी को महाराजपुर विधायक नीरज दीक्षित के प्रतिनिध धनश्याम पटेल की हत्या की गुत्थी सुलझ गई है। पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेस में हत्या कांड का खुलासा करते हुए बताया कि धनश्याम का एक साल पहले सीसी रोड डालने को लेकर पड़ोस में रहने वाले मिथलेश, रघुराज और अशोक श्रीवास से विवाद हुआ था। उसके बाद से धनश्याम पड़ोसियों को अलग-अलग तरीके से उन्हें परेशान क रता था। जिससे परेशान होकर तीनों पडो़सियों ने 4 अन्य लोगों के साथ मिलकर हत्या कर दी। पुलिस ने हत्या के मामले में 7 लोगों को गिरफ्तार किया है।

दो महीने से चल रही थी प्लानिंग
पुलिस की जांच में आरोपी मिशलेश श्रीवास पर शक होने पर उससे पूछताछ की गई, तो पता चला कि पुरानी बुराई को लेकर आरोपी पिछले दो महीने से हत्याकांड को अंजाम देने के लिए प्लानिंग कर रहे थे और मौका देखकर 17 फरवरी को वारदात को अंजाम दे दिया। इस घटना में मिथलेश श्रीवास के साथ उसका भाई अशोक श्रीवास, रघुराज श्रीवास और दोस्त परषोत्तम उर्फ सोनू कुशवाहा, मंगल आठ्या, धर्मेन्द्र आठ्या निवासी झिन्ना, मंगल सिंह लोधी निवासी चंद्रपुरा शामिल थे। आरोपियों ने सोत समय धनश्याम पर लोहे के गंडासा, छुरा, रॉड, लाठी से हमला किया था। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी।

हत्याकांड के आरोपियों के लिए 5 हजार का ईनाम घोषित किया गया था। पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि हत्या में इस्तेमाल किए गए हथियार के साथ ही बाइक क्रमांक एमपी 34 एमई9832 और धनश्याम का मोबाइल फोन आरोपियों से जब्त किया गया है। घटना का खुलासा करने में गढ़ीमलहरा थाना प्रभारी रवि उपाध्याय व स्टाफ के साथ साइबर सेल के संदीप सिंह की भूमिका रही।

Show More
Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned