रविवार को तीन लोगों ने कोरोना को दी मात, तीन नए मामले सामने आए

सफल उपचार के पश्चात तीन और मरीज हुए डिस्चार्ज, जिले में बचे सिर्फ 9 एक्टिव केस

गर्भ में पल रहे बच्चे की खातिर दृढ इक्छाशक्ति के चलते ठीक हुई 8 महीने की गर्भवती

By: Dharmendra Singh

Published: 22 Jun 2020, 07:00 AM IST

छतरपुर। रविवार को सूर्य पर ग्रहण लगा, लेकिन डॉक्टर्स की मेहनत और कोरोना पॉजिटिवों की हिम्मत के चलते ग्रहण के दिन तीन लोगों के जीवन को उम्मीद की नई किरण रोशन कर गई। छतरपुर मे कोरोना से स्वस्थ हुए मरीजों को लगातार डिस्चार्ज किया जा रहा है। इसी सिलसिले में रविवार को 3 मरीजों को पूर्ण स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज किया गया। इन मरीजों में ग्राम महोईखूर्द निवासी 8 माह की गर्भवती महिला भी शामिल है, जिसकी दृढ़ इच्छाशक्ति और अपने गर्भ मे पल रहे बच्चे को सुरक्षित रखने की जि़द के सामने कोरोना भी हार गया। अन्य डिस्चार्ज किए गए मरीजों में से एक बड़ामलहरा और एक ग्राम मऊसहानियां का निवासी है।

रविवार को तीन नए मामले सामने आए
दिल्ली से लौटे लोगों में से तीन नए कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। रविवार की शाम आई सैंपल रिपोर्ट में बड़ालमहरा ब्लॉक के अंधियारा गांव का 12वर्ष का लड़का पॉजिटिव आया है। ये लड़का अपने परिवार के साथ 18 जून को गांव आया था। परिवार के अन्य सदस्यों के सैंपल निगेटिव हैं। वहीं, ईशानगर के पनौथा गांव में दो मामले पॉजिटिव आए हैं। जिसमें 14 जून को दिल्ली से लौटे 40 वर्षीय युवक और 17 वर्षीय किशोर पॉजिटिव पाए गए हैं। ग्राम अंधियारा और पनौथा में कोरोना संक्रमण का पहला केस सामने आया है। प्रशासन ने दोनों गांव को कंटेनमेंट एरिया घोषित कर सील कर दिया है। पॉजिटिव पाए गए लोगों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है। वहीं गांव व परिवार के लोगों को क्वारंटीन कर दिया गया है। कंटेनमेंट एरिया के लोगों को 14 दिन तक क्वारंटीन किया गया है। स्वास्थ्य अमले को रोजाना हेल्थ चेकअप के निर्देश दिए गए हैं।


45 मरीज हो चुके हैं ठीक
जिले में कोरोना संक्रमितों के स्वस्थ्य होने की रफ्तार अच्छी है। जिले में कोरोना संक्रमितों में रिकवरी रेट 88 फीसदी पहुंच गया है। जिले में अब तक पाए गए 54 मरीजों में से 45 अस्पताल से डिस्चार्ज किए जा चुके हैं। जिले में कोरोना रिकवरी रेट शुरु में 70 से 72 प्रतिशत रहा, जो अब बढ़कर 83 फीसदी पहुंच गया है। वहीं ऑपरेशन पहचान, निगरानी समिति, डोर-टूड-डोर सर्वे के चलते जिले में कोरोना का सामुदायिक प्रसार नहीं हो सका। प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की टीम की मेहनत रंग ला रही है। जिले में परेथा इलाके के एक मामले को छोड़कर सभी मामले प्रवासियों के हैं। जिले में संक्रमण का एक भी मामला नहीं पनपा है, जो भी मामले आए हैं, वे बाहर से ही आए हैं।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned