केंद्रीय राज्य मंत्री पहुंचे कैथोकर गांव, अफसर नहीं दिखे मैदान में

केंद्रीय राज्य मंत्री पहुंचे कैथोकर गांव, अफसर नहीं दिखे मैदान में

Samved Jain | Publish: Feb, 15 2018 02:17:17 PM (IST) Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

केंद्रीय राज्य मंत्री पहुंचे कैथोकर गांव, काकुनपुरा के ग्रामीण करते र

छतरपुर/हरपालपुर। जिले में ओलावृष्टि से हुई फसलों की तबाही देखने के लिए बुधवार को प्रशासनिक अफसर गांवों में नहीं पहुंचे। कमिश्नर से लेकर कलेक्टर तक खजुराहो में आयोजित बैठक में समय गुजारते रहे। उधर गांव-गांव में किसानों को हुए नुकसान से उनका बुरा हाल है। इस बीच मंगलवार और बुधवार को ग्रामीण क्षेत्रों में जनप्रतिनिधियों ने अपने दौरे जारी रखे। बुधवार को केंद्रीय मंत्री डॉ. वीरेंद्र कुमार हरपालपुर क्षेत्र के कई गांवों में पहुंचे। उधर पूर्व विधायक शंकर प्रताप सिंह बुंदेला, आलोक चतुर्वेदी पज्जन, निनित चतुर्वेदी बंटी आदि ने बिजावर क्षेत्र के गांवों का दौरा किया। नौगांव क्षेत्र में अजय दौलत तिवारी और जनपद उपाध्यक्ष नीरज दीक्षित, भाजपा किसान मोर्चा के अवीनेंद्र पटैरिया सहित अन्य नेताओं ने गांव में दौरे किए। इधर किसानों को प्रशासन की ओर से अभी ठोस राहत का आश्वासन नहीं मिला है। इस कारण वे परेशान हैं।
हरपालपुर क्षेत्र में पहुंचे केंद्रीय मंत्री :
ओलावृष्टि से तबाह हुई फसलों के नुकसान का जायजा लेने और किसानों को प्राकृतिक आपदा की घड़ी में सरकार की ओर हर मदद का भरोसा दिलाने के लिए बुधवार सुबह करीब 11 बजे के केंद्रीय मंत्री डॉ. वीरेंद्र कुमार नौगांव तहसील के कैथोकर गांव पहुंच ओलावृष्टि से बर्बाद हुई फसलों के तबाही का मंजर देख कर किसानों को हर संभव मदद का भरोसा दिया। किसानों ने खेतों में बर्बाद गे्रंहू, चना, मटर, गन्ने की चौपट फसल दिखाकर किसानों ने अपने हाथ में जमे हुए ओलों की सिल्लयां लेकर अपनी व्यथा सुनाई। गांव के किसानों ने केन्द्रीय राज्यमंत्री डॉ. वीरेंद्र खटीक को बतलाया कि उन खेतों का कुछ रकवा उत्तर प्रदेश के महोबा जिले की कुलपहाड़ तहसील के राजस्व रिकार्ड में दर्ज हैं। लगान भी हर वर्ष भरते हैं लेकिन आज तक महोबा जिले के राजस्व अधिकारियों द्वारा कोई राहत राशि नहीं दी जाती हैं। सूखा राहत राशि के लिए महोबा के अफसरों से मिले थे लेकिन उन्होंने राहत राशि देने से इंकार कर दिया था। साथ वहाँ के राजस्व अधिकारी कहते कि आप लोग हमारे जिले के निवासी नहीं इस कारण कोई राहत राशि नहीं मिलेंगी। किसानों ने बताया कि ओलावृष्टि से बर्बाद हुई फसलों का ही मुआवजा ही उन किसानों को मिल जाए जिनकी ज़मीन यूपी मौजे में दर्ज हैं।
इस पर केन्द्री राज्यमंत्री डॉ. वीरेंद्र खटीक ने कहा कि आप लोग सूची बनाकर दें, कितने किसान गांव में ऐसे हैं। यूपी सरकार से बात कर राहत राशि दिलाने का प्रयास करेंगे। करीब 20 मिनिट तक कैथोकर में रुकने के बाद मंत्री खटीक वापस हारपलपुर होते हुए गर्रौली की ओर निकल गए। कैथोकर गांव के पास स्थित काकुनपुरा गांव के किसान मंत्री का इंतजार करते रहे, लेकिन वे वहां नहीं पहुंचे।
30 मिनट तक जाम में फंसे रहे केंद्रीय राज्यमंत्री :
कैथोकर गांव से ओलावष्टि से हुए नुकसान का जायजा लेकर वापस लौट रहे डॉ. वीरेंद्र खटीक का काफिला हरपालपुर नगर के रेलवे क्रासिंग पर ज़ाम में फंस गया। करीब 30 मिनट तक मंत्री ज़ाम में ही फंसे रहे। नगर के रेलवे क्रासिंग पर दिन में 10 बार लगने वाले जाम के बारे में लोगों ने उन्हें बतलाया तो वे हैरान रह गए। ज़ाम इतना लंबा था कि हाईवे 339 झाँसी-मिजऱ्ापुर पर दोनों और सैकड़ो वाहनों की कतार लग गई। थाना प्रभारी और मंत्री केफॉलो गार्ड ने कड़ी मशक्कत के बाद राज्यमंत्री को जाम से निकलवाया। ज़ाम से निकलने के बाद मंत्री ने थाना प्रभारी से नाराजगी भरे लहजे में सवाल किया कि आज शिवरात्रि हैं तो श्रदालुओं की भारी भीड़ होने के बाद भी ज़ाम नहीं लगे, इसके लिए पुलिस बल नियुक्त क्यों नहीं किया गया।
बरेजे चौपट, गांव-गांव पहुंचे जनप्रतिनिधि :
छतरपुर। जिले में फसलों के चौपट होने के बाद गांव-गांव में जिले के जनप्रतिनिधियों ने दौरा शुरू कर दिया है। बुधवार को पूर्व विधायक शंकर प्रताप सिंह मुन्ना राजा ने आधा दर्जन गांवों का दौरा कर तबाही का मंजर देखा। उनके साथ युवक कांग्रेस के प्रदेश सचिव सिद्धार्थ शंकर बुंदेला भी मौजूद थे। उन्होंने पीडि़त किसानों को दुख की इस घड़ी में ढांढस बंधाया। उन्होंने बिजावर क्षेत्र के ग्राम बांदनी, रामपुर, पिपट, गुड़पारा सहित आधा दर्जन ग्रामों का भ्रमण किया। बांदनी रामपुर में किसानों ने बताया कि ओलावृष्टि से जहां उनकी फसल बर्बाद हो गई है तो वहीं किसानों के जानवर भी जख्मी हुए हैं। कई किसानों के मकान भी टूटकर गिर गए हैं। किसानों का कहना था कि इस साल वे पहले ही सूखे की मार झेल रहे थे अब ओलावृष्टि ने उन्हें भूखों मरने के कगार पर पहुंचा दिया है। इस अवसर पर मुन्ना राजा ने किसानों से कहा कि वे घबराएं नहीं धैर्य रखें अगर प्रशासन ने जल्द ही उनके खेतों का सर्वे कराकर राहत राशि नहीं बांटी तो कांग्रेस किसानों के लिए आंदोलन करेगी। उन्होंने कहा कि प्रशासन किसानों की फसल के साथ उनके पशु,मकान आदि के नुकसान का सर्वे भी करे। पिपट में कई किसानों की पान की खेती भी ओलावृष्टि में बर्बाद हो चुकी है। यहां पहुंचे मुन्ना राजा ने खेत मे जाकर बरेजों को देखा।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned