इलेक्शन मोड में आई पुलिस,यूपी-एमपी के पुलिस अधिकारियों ने की पहली बैठक

खजुराहो के एक होटल में हुई वार्डर मीटिंग, सूचनाओं के आदान-प्रदान और अपराध रोकने को लेकर हुई चर्चा

By: Samved Jain

Published: 20 Jul 2018, 12:53 PM IST

खजुराहो। विधानसभा चुनाव की आचार संहिता भले ही अभी लागू न हुई हो, लेकिन पुलिस अभी से इलेक्शन मोड में आ गई है। इसी को लेकर गुरुवार को यूपी-एमपी के पुलिस अधिकारियों ने खजुराहो के एक होटल में वार्डर मीटिंग करके चुनाव के दोनों सीमा क्षेत्रों में कानून व्यवस्था मजबूत रखने के मुद्दे पर महत्वपूर्ण चर्चा की। इस वार्डर और क्राइम मीटिंग में मध्यप्रदेश के छतरपुर, पन्ना और टीकमगढ़ एवं उत्तरप्रदेश के बाँदा, चित्रकूट, हमीरपुर तथा महोबा जिलों के पुलिस अधिकारियों ने हिस्सा लिया।


वार्डर मीटिंग में मध्यप्रदेश तथा उत्तरप्रदेश की सीमा से जुड़े जिलों में कानून व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा करने के साथ ही अपराधों की रोकथाम और आपसी संवाद तथा समन्वय बनाने के मुद्दों पर गंभीर चर्चा हुई। इन सभी मामलों की उच्च स्तरीय समीक्षा हुई। इसी साल मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं। लिहाजा बैठक में चुनाव को प्रभावित करने वाले तत्वों को रोकने पर भी विशेष चर्चा हुई। बैठक में एडीजी इलाहाबाद एसएन सावत, डीआईजी बांदा मनोज तिवारी, आईजी सागर सतीश कुमार सक्सेना, डीआईजी छतरपुर रेंज अनिल कुमार माहेश्वरी, एसपी छतरपुर विनीत खन्ना, एसपी पन्ना विवेक सिंह एसपी टीकमगढ कुमार प्रतीक, एसपी चित्रकूट मनोज कुमार झा, एसपी महोबा एसपी हमीरपुर सहित इन सभी जिलों के पुलिस थाना के अधिकारी शामिल हुए।

 

वार्डर पर आपराधिक गतिविधियां कम करने पर है फोकस :
बैठक के बाद उत्तर प्रदेश के एडीजी इलाहाबाद एसएन सावत ने बताया कि दोनों प्रदेशों की सीमा पर आपराधिक गतिविधियों को रोकने में सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जाएगा। अपराध करने वालों को सीमा पार करने पर किस तरह गिरफ्तार किया जा सके, चुनावी गतिविधियों के दौरान प्रभावित करने वालों को सीमा पर ही दबोचने की प्रभावी कार्रवाई की रणनीति तैयार की गई।


वहीं सागर आईजी सतीश कुमार सक्सेना ने बताया कि बैठक में मुख्य रूप से तय किया गया कि बॉर्डर मीटिंग हर तीन महीने में निर्धारित होगी जिसमें सीमा पर अपराध रोकने के लिए कारगर उपाय की समीक्षा हो। दोनों राज्यों की पुलिस का एक ही मकसद है कि सीमा पर अपराध और अपराधियों को सख्ती से रोका जाए। आगामी चुनाव के दौरान अपराधियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Chhatarpur
Samved Jain
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned