उच्च शिक्षक, माध्यमिक शिक्षक के दस्तावेजों का सत्यापन शुरु, दो दिन में 110 का हुआ सत्यापन

शिक्षक बनने 2 साल पहले दी परीक्षा, सालभर बाद आया परिणाम, अब शुरू हुई नियुक्ति

By: Dharmendra Singh

Published: 06 Apr 2021, 08:17 PM IST

छतरपुर। दो साल पहले शिक्षक बनने का सपना जिन आवेदकों ने संजोया था, उनकी नियुक्ति प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकी। 2020 में सालभर पहले दस्तावेज वेरिफिकेशन कोरोना के चलते रोक दिया तो आवेदकों ने विरोध किया। अब एक बार फिर से 1 अप्रेल से उच्च शिक्षक और माध्यमिक शिक्षक यानी वर्ग 1 वर्ग 2 के दस्तावेजों का परीक्षण फिर से शुरू हो गया है। जिला मुख्यालय पर बहुउद्देशीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक 02 में बनो गए 2 सेंटरों पर दस्तावेजों का सत्यापन किया जा रहा है। 1 और 3 अप्रेल को 110 परीक्षार्थियों की काउंसलिंग हुई है। अब 8 और 12 अप्रेल को शेष रह गए परीक्षार्थियों की काउंसलिंग होनी है।

253 उम्मीदवारों का हो रहा दस्तावेज सत्यापन
जिले में वर्ष 2020 के जुलाई माह में पहले चरण के दस्तावेज सत्यापन में 200 उम्मीदवार शामिल हुए थे। अब दूसरे चरण में एक अप्रेल से शुरु हुए सत्यापन में जिले के 253 उम्मीदवारों के दस्तावेजों का सत्यापन किया जा रहा है। जिसमें पहले दिन 1 अप्रेल को दोनों सेंटरों पर 10-10 उम्मीदवारों के दस्तावेजों की परीक्षण किया गया। वही दूसरे दिन 3 अप्रेल को दोनों सेंटरों पर 45-45 उम्मीदवारों के दस्तावेज जांचे गए। नंबर 2 स्कूल में बनाए गए सेंटर में एक सेंटर के प्रभारी जिला शिक्षा अधिकारी एसके शर्मा और दूसरे सेंटर के प्रभारी सहायक संचालक शिक्षा जेएन चतुर्वेदी हैं। अब इन सेंटरों पर 8 और 12 अप्रेल को बाकी उम्मीदवारों के दस्तावेज जांचे जाएंगे।

साल भर नहीं आया परिणाम
वर्ष 2011 के बाद शिक्षकों की भर्ती प्रक्ििरया 2019 में यानी 8 साल निकल जाने पर शुरू हुई जिसमें 3 महीने के अंदर पूरी प्रक्रिया पूर्ण कर आवेदकों को शिक्षक बनाने का दायित्व तय किया। परीक्षा लेने के बाद पूरे साल भर आवेदकों का परिणाम ही नहीं आया। जब परिणाम आया तो फिर दस्तावेज का वेरिफिकेशन नहीं हो सका। जिससे शिक्षक बनने का सपना देख रहे आवेदक विरोध पर उतर गए। विरोध के चलते एक बार फिर से शिक्षा विभाग ने अब उच्च शिक्षक और माध्यमिक शिक्षक की पात्रता परीक्षा पास किए हुए आवेदकों से दस्तावेजों का परीक्षण करने की तारीख घोषित की है। जिनमें वह निर्धारित टाइम में पहुंचकर अपना दस्तावेज प्रस्तुत कर सकते हैं। 4 जुलाई 2020 के बाद बंद हुई दस्तावेजों के परीक्षण की प्रक्रिया एक बार फिर से 1 अप्रेल से शुरू हो गई है। अब को शिक्षक बनने का अवसर मिल जाएगा।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned