व्हीएलएम किट खत्म, अब सिर्फ भर्ती मरीजों की होगी ट्रू-नॉट मशीन से कोरोना सैंपल की जांच

व्हीटीएम किट के जरिए बाहर सैंपल भेजकर हो रही जांच

जिला अस्पताल की ट्रून नॉट मशीन से केवल इमरजेंसी केस में ले रहे सैंपल

By: Dharmendra Singh

Published: 01 Aug 2020, 06:00 AM IST

Chhatarpur, Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

छतरपुर। कोरोना संदिग्ध का स्वाब सैंपल लेकर जिस डिब्बी में रखा जाता है, उस डिब्बी यानि व्हीएलएम (वायरल लाइसिस मीडियम ) की सप्लाई न होने से शॉर्टेज हो गई है। गोवा से सप्लाई होने वाली ये किट गोवा में लॉकडाउन के कारण पूरे प्रदेश में ही नहीं आ पा रही है। इस किट के जरिए जिला अस्पताल में लगी दो ट्रू नॉट मशीन से रोजोना 30-30 सैंपल की जांच की जाती रही है। लेकिन किट खत्म होने से अब केवल सीरियस, डायलिसिस और भर्ती मरीजों के सैंपल की ही जांच ट्रू नॉट के जरिए की जा रही है। जो एक दिन में 10 से 15 जांच तक ही हो पा रही है। किट की समस्या को देखते हुए स्वास्थ विभाग ने ट्रू नॉट से केवल इमरजेंसी या भर्ती मरीजों के सैंपल ही लिए जाने की व्यवस्था बनाई है।

व्हीटीएम किट से भेज रहे सैंपल
जिले के ब्लॉक लेवल से अब जिला अस्पताल की ट्रू-नॉट मशीन से जांच के लिए सैंपल नहीं भेजे जा रहे हैं। बल्कि व्हीटीएम(वायरल ट्रासंपोर्ट मीडियम) किट के जरिए सैंपल सीधे बाहर भेजे जा रहे हैं। ट्रू नॉट की व्हीएलएम किट छोटे आकार की होती है। जबकि व्हीटीएम किट बड़े आकार की होती है। ऐसे में व्हीटीएम किट के सैंपल की ट्रू नॉट मशीन से जांच नहीं हो पाती है, वहीं व्हीएलएम किट के सैंपल की जांच बड़ी मशीनों से नहीं हो पाती है। ऐसे में जिले से लिए जाने वाले सैंपल अब पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध व्हीटीम किट से लेकर बाहर भेजे जा रहे हैं। जबकि व्हीएलएम किट के सैंपल की जांच इमरजेंसी केस तक सीमित करना पड़ी है।

ट्रू नॉट से रोजोना 60 सैंपल की होती थी जांच
प्रदेश में ट्रू नॉट मशीन से कोरोना सैंपल की जांच के मामले में छतरपुर 15 दिन पहले दूसरे और अब तीसरे नबंर पर आ गया है। रोजोना 60 सैंपल जांचने वाली मशीन से अब केवल 10 से 15 जांचें की हो पा रही है। व्हीएलएम किट की समस्या का स्थाई समाधान नहीं मिलने से व्हीटीएम किट से सैंपलिंग बढ़ाई गई है। हालांकि बाहर सैंपल भेजने से जांच रिपोर्ट आने में दो से तीन दिन लगते हैं। ऐसे में जांच रिपोर्ट देर से मिलने से परेशानी भी बढ़ गई है।

व्हीटीएम से करा रहे सैंपलिंग
किट की समस्या पूरे प्रदेश में सामने आई है। समस्या के समाधान के लिए फिलहाल ट्रू नॉट से केवल इमरजेंसी या भर्ती मरीजों के सैंपल की ही जांच की जा रही है। किट की सप्लाई पर्याप्त होने पर समीक्षा कर अगला कदम उठाया जाएगा। फिलहाल व्हीटीएम किट के जरिए सैंपल बाहर भेजकर जांच कराई जा रही है।
डॉ. शरद चौरसिया, टेस्टिंग प्रभारी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned