गेट खराब होने से प्रतिदिन हो रहा हजारों लीटर पानी बरबाद

- जानकारी के बाद भी नहीं किया जा रहा दुरस्त

Samved Jain

September, 1303:01 PM

Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

अंशुल असाटी बकस्वाहा। नगर से 2 किलोमीटर दूर भदभदा डेम बांध शासन द्वारा लाखों की लागत से बनाया गया था। जिसमें ठेकेदार द्वारा सही तरीके से काम ना किए जाने पर हजारों लीटर पानी गेट खुले होने के कारण नाले से बह रहा है। नगर के दमोह रोड पर स्थित भदभदा डैम करीब चार वर्ष पहले 378.30 लाख की लागत से बांध का निर्माण कराया गया था। जिससे क्षेत्र के किसान बांध के पानी से अपने खेतों की फसल की सिंचाई कर सकें। जिससे समुचित क्षेत्र की 275 हेक्टेयर भूमि सिंचित की जाती है। इस डैम में कई गांव के किसानों की जमीन 6०.50 हेक्टएयर डूब में आई थी। उन किसानों को अधिग्रहित करके उन्हें मुआवजा दिया गया था। इस डेम का 2014 में निर्माण हुआ है। लेकिन घटिया निर्माण होने से डेम में मजबूती नहीं आ सकी। इसके बावजूद अधिकारियों ने इस ओर जरा सा भी ध्यान नहीं दिया। अधिकारियों और कर्मचारियों की लापरवाही के चलते डैम में बने गेट से प्रतिदिन भारी मात्रा में पानी निकल रहा है। जिस कारण से हजारों लीटर पानी प्रतिदिन नहर से बह जाता है। बक्सवाहा विकासखंड वैसे भी सूखे की चपेट में रहता है बारिश कम होने के कारण भदभदा डेम पूर्ण रूप से भराव नहीं हो पाया और अगर डैम का गेट समय पर बंद नहीं किया गया तो आगामी समय में परिणाम और भी गंभीर होने की प्रबल संभावनाऐं हैं। साथ ही आने वाले अगली रवी फसल के लिए खेतों में सिंचाई के लिए किसानों को परयाप्त पानी नशीब नहीं होगा। अगर किसानों को इस भदभदा डेम से पानी नहीं मिलेगा तो किसानों की 275 हेक्टेयर भूमि असिंचित रह जाएगी। जिसको लेकर क्षेत्रीय किसान काफी चिंतित है। हालाकि इसके लिए कुछ किसानों द्वारा आवाज उठाई भी गई है लेकिन अभ्ीा तक किसी भी अधिकारी द्वारा इस ओर ध्यान देना उचित नहीं समझा जा रहा है। वहीं आस पास के लोगों ने बताया कि डैम में बने काढ़ा की चूड़ी खराब हो जाने से डैम का गेट खुला हुआ है। जिससे प्रतिदिन उसमें से पानी निकल रहा है। डेम से प्रतिदिन भारी मात्रा में निकलते हुए पानी की चिंता ना कोई जनप्रतिनिधि को है और ना ही कोई आलाअधिकारी को है चिंता केवल वहां पर खेतिहार किसानों को ही इसकी चिंता सता रही है। स्थानीय किसान विंद्रावन, रामेश्वर, सालू, हल्कन, रामस्वरूप आदि किसानों का कहना है कि यदि समय पर पानी निकलना बंद नहीं कराया गया तो डैम पूरी तरह से खाली हो जाएगा और आने वाली रवी की फसलें पानी के अभाव में सूख जाएगी जिससे किसानों की मुश्किलें और भी बढ़ जाएंगी।

१३ करोड की लागत से बनाई जा रही जलावर्धन योजना
कई वर्षों से भयानक पेयजल समस्या और सूखा की मार झेल रहे बकस्वाहा नगर में शासन द्वारा १३ करोड की लागत से जलावर्धन योजना की शौगात दी गई है। इस योजना में भदभदा डेम से नगर में पानी की सप्लाई करने की योजना है। जिसका कार्य जारी है। लेकिन अभी डेम के ऐसे ही हालात रहे तो नगर की प्यास बुझाने का सपना पूरा नहीं हो सकेगा और लोगों को इस वर्ष भी पेयजल की समस्या का सामना करना पड़ेगा।

बोले अधिकारी
बेस्ट बेयर से पानी निकलने की जानकारी अभी तक नहीं थी। मैं जानकारी करता हूं अगर वहां पर पानी बरबाद हो रहा है तो गलत है। इसके लिए सिंचाई विभाग के अधिकारी को निर्देशित कर जांच कराई जाएगी।
मनोज मलवीय एसडीएम बिजावर/बकस्वाहा

Samved Jain
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned