3.20 मीटर बढ़ा उर्मिल बांध का जलस्तर

3.20 मीटर बढ़ा उर्मिल बांध का जलस्तर

rafi ahmad Siddqui | Publish: Sep, 05 2018 01:15:17 PM (IST) Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

बारिश के पहले डेड लेविल के नीचे २२७.०० मीटर पर पहुंच गया था उर्मिल का जल स्तर

छतरपुर। बारिश का असर अब बांधों के जल स्तर पर देखने को मिल रहा है। लगातार हो रही बारिश से बांधों का जल स्तर बढ़ रहा है। यूपी-एमपी सीमा पर स्थित उर्मिल बांध के जल स्तर में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। इस दौरान उर्मिल बांध का पानी ३००.०० मीटर पहुंच गया है। पिछले तीन दिन के अंदर उर्मिल बांध के पानी में ३.२० मीटर की बढ़ोत्तरी की हुई है। हालात को देखते हुए यूपी के सिंचाई विभाग के अधिकारी व कर्मचारी अलर्ट हो गए हैं। यहां हर दो-दो घंटे में बांध के जल स्तर को नापा जा रहा है। साथ ही इसकी सूचना उच्चाधिकारियों को भेजी जा रही है।
यूपी-एमपी सीमा पर स्थित उर्मिल बांध में बारिश के चलते ३.२० मीटर पानी बढ़ गया है। जिससे आसपास के लोगों ने राहत की सांस ली है। साथ ही पेयजल समस्या से जूझ रहे लोगों को भी राहत मिली है। उर्मिल बांध में पानी बढऩे से सिंचाई विभाग के अधिकारी व कर्मचारी भी चौकन्ना हो गए हें। यूपी-एमपी की सीमा पर स्थित उर्मिल बांध का ६० फीसदी पानी सिंचाई के लिए मप्र के छतरपुर जिले के किसानो ंको दिया जाता हे। जबकि ४० फीसदी पानी से महोबा जिले की सिंचाई की जाती है। जिसमें से बांध के आरक्षित पानी से महोबा शहर को पेयजल आपूर्ति मुहैया कराई जाती है। वर्ष २०१७ में सूखा के चलत ेउर्मिल बांध २२८.३० मीटर अपने डेड लेवित से भी नीचे २२७.०० मीटर पहुंच गया था। जिससे पानी को लेकर हायतौबा मची थी। अब मप्र क्षेत्र में हो रही बारिश के चलत ेबांध में दिन प्रति दिन जलस्तर बढ़ रहा है। गौरतलब है कि यूपी महोबा व मप्र के छतरपुर जिले को सिंचाई सुविधा मुहैया कराने के लिए ४१९७८ में उर्मिल बांध का निर्माण कराया गया थ्ज्ञा। बाद में महोबा में बढ़ते पानी के संकट को देखते हुए वर्ष २००५ में महोबा पेयजल पुनर्गठन योजना बनाई गई थी। पांच साल बाद योजना के तैयार होने पर वर्ष २०१० में महोबा शहर, श्रीनगर गांव में भी पेयजल आपूर्ति शुरू करा दी गई। पानी को शुद्ध करने के लिए श्रीनगर में फिल्टर प्लांट भी बनाया गया है। उर्मिल बांध का पानी श्रीनगर में शुद्ध करने के बाद उसकी सप्लाई महोबा जिला मुख्यालय में की जाती है। महोबा जिला मुख्यालय की अधिकांश आबादी उर्मिल बांध के पानी पर निर्भर रहती है।

Ad Block is Banned