scriptWater will be available only once for irrigation of 49000 hectares | 49 हजार हेक्टेयर भूमि की सिंचाई के लिए मिलेगा सिर्फ एक बार पानी | Patrika News

49 हजार हेक्टेयर भूमि की सिंचाई के लिए मिलेगा सिर्फ एक बार पानी


रनगुंवा, उर्मिल जैसे बड़े बांधों में भी पानी की कमी, सिंचाई का लक्ष्य पिछले साल से 10 हजार हेक्टेयर घटा
छतरपुर शहर को पानी देने वाला बूढ़ा बांध भी इस बार 17 फीसदी ही भरा, गर्मियों में बढ़ेगी परेशानी

छतरपुर

Published: November 08, 2021 08:02:19 pm


छतरपुर। जिले में औसत बारिश 42 इंच की तुलना में इस बार सिर्फ 29 इंच बारिश हुई है। कम और खंड बारिश का असर सर्दियों की शुरुआत में ही नजर आने लगा है। जिले के ज्यादातर बड़े बांधों में अभी से पानी तलहटी तक सिमट कर रह गया है। जिससे रबी सीजन के लिए 15 नवंबर से दिया जाने वाला पहला पानी न मिलने का संकट खड़ा हो गया है। जिले के बांधों की कुल सिंचाई क्षमता 92 हजार हेक्टेयर की तुलना में इस बार केवल 49250 हेक्टेयर को ही पानी मिल पाएगा और वो भी सिर्फ एक बार। रनगुंवा जैसे बड़े बांध भी इस बार केवल 17 फीसदी ही भरे हैं। पानी की समस्या न केवल सिंचाई के लिए हैं, बल्कि इस बार पेयजल आपूर्ति करने वाला बूढ़ा बांध भी मात्र 17 फीसदी ही भरा है। ऐसे में सिंचाई व पेयजल की आपूर्ति को लेकर इस बार गर्मियों में मुश्किलें बढ़ सकती हैं।
कम बारिश का असर
कम बारिश का असर
ये है जिले के बांधों के हालात
जिले के बेनीगंज बांध की जलभराव क्षमता 311 एमसीएम है, लेकिन इस बार केवल 11.49 एमसीएम पानी ही बांध में मौजूद है। इसी तरह 311 एमसीएम जलभराव वाले बूढ़ा बांध में केवल 1.78 एमसीएम पानी है। 264 एमसीएम क्षमता वाले गोरा टैंक में केवल 1 एमसीएम पानी मौजूद है। रनगुवां बांध में 233 एमसीएम की क्षमता के एवज में केवल 27.75 एमसीएम पानी बचा है। सिंहपुर बांध में 209 एमसीएम की क्षमता है, लेकिन वर्तमान में केवल 12.97 एमसीएम पानी ही मौजूद है। तारपेड़ प्रोजेक्ट में 270 एमसीएम की जगह केवल 20.33 एमसीएम और उर्मिल डेम में 237 एमसीएमसी की जगह केवल 16.68 एमसीएम जलभराव हुआ है।
पिछले साल से भी कम हो पाएगी इस बार सिंचाई
बांधों के जलभराव की स्थिति इतनी खराब है कि सिंचाई विभाग इस बार केवल कम पानी वाली फसलों के लिए एक बार ही पानी दे पाएगा। केवल 49250 हेक्टेयर भूमि की सिंचाई के लिए ही पानी देने का लक्ष्य है। जबकि पिछले साल 60 हजार हेक्टेयर भूमि की सिंचाई के लिए पानी दिया गया था। जिले के बांधों से 92 हजार हेक्टेयर भूमि की सिंचाई के लिए जलभराव क्षमता है, लेकिन हर साल घट रही औसत बारिश के चलते सिंचाई का रकबा घटता जा रहा है।

फैक्ट फाइल

बांध जलभराव (प्रतिशत में)
गोरा टैंक 9
उर्मिल 14
रनगुंवा 17
सिंहपुर 28
कुटनी 48
बेनीगंज 43
तारपेड़ 54


फैक्ट फाइल सिंचाई

वर्ष सिंचित की गई भूमि
2016-17 85691 हेक्टेयर
2017-18 33401 हेक्टेयर
2018-19 80335 हेक्टेयर
2019-20 91161 हेक्टेयर
2020-21- 60000 हेक्टेयर
2021-22 49250 हेक्टेयर(लक्ष्य)
दे पाएंगे सिर्फ एक बार पानी
जल उपयोगिता समिति की बैठक में बांधों में उपलब्ध पानी को देखते हुए कम पानी वाली फसलों को एक बार पानी देने का निर्णय लिया गया है। पिछले साल हमने 60 हजार हेक्टयेर के लिए नहरों से पानी उपलब्ध कराया था, लेकिन इस बार 49250 हेक्टेयर का लक्ष्य रखा गया है। पहला पानी तय समय से दिया जाएगा। हमारा प्रयास है लक्ष्य पूरा कर लिया जाए।
एमके रुसिया, ईई, जलसंसाधन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

Mizoram Earthquake: मिजोरम में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर रही 5.6 तीव्रताराष्ट्रीय युद्ध स्मारक में विलय की गई अमर जवान ज्योति की लौ; देखें VIDEO'हिजाब' पर कर्नाटक के शिक्षा मंत्री के बयान पर बवाल! जानिए क्या है पूरा मामलाUP Election 2022: राहलु और प्रियंका ने जारी किया कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं पर फोकसदिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारकर्नाटक: शनिवार व रविवार को भी खुलेंगे बाजार लेकिन एक शर्त हैIND vs SA: मायूस विराट कोहली के चेहरे पर आई खुशी, ऋषभ पंत का सिक्स देखकर करने लगे डांसतत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal Loan
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.