रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ी गई महिला अफसर, फिर भी यूं रही मुस्कुराती, एक शौचालय पर लेती थी 500 रुपये

शिकायतकर्ता से 5500 रुपये की रिश्वत ले रही थी महिला अफसर

By: Muneshwar Kumar

Published: 18 Feb 2020, 05:53 PM IST

छतरपुर/ लोकायुक्त पुलिस ने छतरपुर में एक महिला अफसर को रिश्वत लेते हुए रंगेहाथ गिरफ्तार किया है। गिरफ्तारी के बाद भी वह महिला अफसर मुस्कुराती रही। मानो उसने कोई गुनाह ही नहीं किया हो। स्वच्छ भारत मिशन की ब्लॉक कोऑर्डिनेटर नीलम तिवारी को लोकायुक्त पुलिस ने उनके दफ्तर में ही रिश्वत लेते हुए रंगेहाथ गिरफ्तार किया है। बाद में उन्हें जमानत मिल गई है।

दरअसल, छतरपुर जिले के सरानी गांव में शौचालय निर्माण का काम चल रहा है। रोजगार सहायक जितेंद्र सिंह शौचालयों के निर्माण के बाद फोटो सत्यापित कर हितग्राही के खाते में रुपये डालने के लिए लगातार नीलम तिवारी के कार्यालय का चक्कर काट रहा था। लेकिन ब्लॉक कोऑर्डिनेटर नीलम तिवारी लगातार उससे पैसे की मांग कर रही थी। इससे परेशान होकर रोजगार सहायक ने लोकायुक्त पुलिस से शिकायत की। लोकायुक्त की टीम ने शुरुआती जांच में मामले को सही पाया।

ऑफिस में ही ट्रैप हुई महिला अफसर
रोजगार सहायक ने हितग्राहियों के खाते में शौचालय निर्माण की राशि डालने के लिए महिला अफसर से 500 रुपये प्रति शौचालय की दर से रिश्वत की राशि तय की। 13 शौचालय की राशि के बदले महिला अफसर ने 6500 रुपये की मांग की थी। रोजगार सहायक ने पहले एक हजार रुपये की राशि की भुगतान कर दी थी। मंगलवार को वह अपने ऑफिस में 5500 रुपये ले रही थी। तभी लोकायुक्त की पुलिस ने रंगेहाथ पकड़ लिया है।

लोकायुक्त पुलिस की टीम ने महिला अधिकारी के बैग से स्याही लगे हुए रुपये भी बरामद कर लिए है। वहीं, उप पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार खेड़े विपुस्था ने कहा कि शौचालय निर्माण की राशि रिलीज करने के लिए वह रिश्वत ले रही थीं। शिकायतकर्ता के आरोपों की जांच की गई तो मामला सही निकला। उसके बाद महिला अधिकारी को लोकायुक्त की पुलिस ने ट्रैप किया है।

चेहरे पर शिकन नहीं
रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार हुई महिला अफसर नीलम तिवारी के चेहरे पर कोई शिकन नहीं था। वह लोकायुक्त की टीम के सामने भी निर्लज्जता के साथ मुस्कुरा रही थीं।

Show More
Muneshwar Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned