गांव को सुरक्षित रखने युवा कर रहे चौराहों पर पहरेदारी

लोगों की आवाजाही पर खुद ग्रामीण रख रहे नजर

छतरपुर. प्रवासी मजदूरों के वापस लौटते ही कोरोना वायरस का खतरा बढ़ गया है। ग्रामीण क्षेत्र से लेकर नगरीय इलाकों में मरीज भी मिलने लगे हैं। जिला अभी तक संक्रमण से अछूता था लेकिन अभी यहां संक्रमित लोगों की संख्या नौ हो चुकी है। पड़ोसी गांव में एक साथ चार लोगों के संक्रमित होने के कारण सरसेड़ के युवाओं ने अपने गांव की पहरेदारी शुरू कर दी है। जानकारी के मुताबिक कैंथोकर में चार लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं जिससे कैंथोकर को कैंटेनमेंट एरिया घोषित कर दिया गया है। कैंथोकर के समीपी ग्राम सरसेड़ के युवाओं ने अपने गांव की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पहरेदारी शुरू कर दी है। गांव के युवा मुख्य रास्तों पर पहरा देने में लगे हैं। लक्ष्मण अनुरागी के नेतृत्व में रास्तों पर नजर रखी जा रही है।
कैंथोकर के लोग पहाड़ी वाले रास्ते का उपयोग कर सरसेड़ गांव से होकर हरपालपुर जाते हैं। रास्ते में उनके रुकने पर नजर रखी जा रही है साथ ही यह प्रयास किए जा रहे हैं कि कैंथोकर के लोग यहां से न निकल सकें। क्योंकि यदि एक भी व्यक्ति संक्रमित हो गया तो उससे पूरे गांव में संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाएगा। सरसेड़ के सरपंच प्रतिनिधि बृजेंद्र अरजरिया उर्फ पप्पू महाराज ने बताया कि गांव में लगातार मुनादी कराकर लोगों को सचेत किया गया है तथा बाहर से आने वाले लोगों को घर में रहने की सलाह दी गई है।
ऑपरेशन पहचान से मिल रही मदद: ईशानगर के ग्राम कालापानी में मिले कोरोना पॉजिटिव मरीज़ कि कांटेक्ट ट्रेसिंग हेतु ऑपरेशन पहचान मददगार सिद्ध हुआ है। मरीज ने जिले में वापस लौटने के उपरांत कहां-कहां संपर्क किया, इसकी जानकारी मरीज़ के स्वस्थ्य होने के बाद ली जा रही है। तब जिला प्रशासन द्वारा ऑपरेशन पहचान के माध्यम से कोरोना संक्रमित मरीज़ के संपर्क में आए लोगो एवं वे संस्थान जहां संक्रमित मरीज़ जांच के लिए गया, उनको चिन्हित किया गया एवं सभी के सैंपल जांच हेतु भेजकर उन्हें 14 दिवस के लिए होम क्वारंटाइन भी कराया गया है। इसी तरह कैथौकर में 5 मई के बाद जिले में आए लोगों के सर्वे में कोरोना संदिग्ध मिलने पर सैंपल जांच कराने पर पॉजीटिव केस सामने आया।
कंटेनमेंट क्षेत्र रहवासियों का हुआ स्वास्थ्य परीक्षण
कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह एवं पुलिस अधीक्षक कुमार सौरभ द्वारा लवकुशनगर वार्ड क्रमांक 2 अंतर्गत बनाए गए कंटेनमेंट एरिया का निरीक्षण किया गया। उनके द्वारा कंटेनमेंट एरिया के सर्विलेंस हेतु गठित किए गए दल की समीक्षा बैठक ली गई एवं आश्वयक दिशा-निर्देश भी दिए गए। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह ने कंटेनमेंट एरिया में उपस्थित स्वास्थ्य टीम एवं डॉक्टरों से चर्चा की। उन्होंने बताया कि उक्त क्षेत्र में निवासरत सभी व्यक्तियों का स्वास्थ्य सर्वे कराया जा चुका है, साथ ही सभी को 14 दिवस के लिए होम क्वॉरेंटाइन भी किया गया है। कलेक्टर अधिकारियों को निर्देशित किया कि होम क्वॉरेंटाइन के नियमों का पालन सख्ती से कराया जाए।

हामिद खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned