जिसके लिए किसानों ने किया बड़ा आंदोलन वह लाभ इन 14 कैदियों को मिलेगा, जानें मसला

Rajendra Sharma

Publish: Sep, 17 2017 05:13:46 (IST)

Chhindwara, Madhya Pradesh, India
जिसके लिए किसानों ने किया बड़ा आंदोलन वह लाभ इन 14 कैदियों को मिलेगा, जानें मसला

किसान कर्ज माफी का लाभ दिलाने कैदियों का डाटा तैयार कर किया ऑनलाइन पंजीयन

छिंदवाड़ा/नागपुर. कर्ज माफी के लिए मप्र के मालवा और महाराष्ट्र के विदर्भ में बड़े स्तर पर आंदोलन हुए, लेकिन सरकार कोई निर्णय नहीं ले पाई। वहीं नागपुर सेंट्रल जेल में आपराधिक मामले में सजा काट रहे 14 कैदियों महाराष्ट्र राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी किसान कर्ज माफी का लाभ दिलाने की कवायद शुरू की गई है। इनके ऑनलाइन आवेदन स्वीकार किए गए हैं। दरअसल, जिला प्रशासन ने सामाजिक कार्यकर्ता की मदद से कर्ज माफी के लिए जरूरी कैदियों का डाटा प्राप्त किया है।
जानकारी के अनुसार नागपुर सेंट्रल जेल में सजा काट रहे नागपुर, चंद्रपुर, वर्धा, भंडारा व गड़चिरोली के 14 कैदियों ने कर्ज माफी के लिए ऑनलाइन आवेदन किए। जिला प्रशासन ने सामाजिक कार्यकर्ता व जेल प्रशासन की मदद से इन कैदियों के आईडी व खेत से संबंधित डाटा व दस्तावेज प्राप्त किया। इन कैदियों को ऑनलाइन आवेदन के लिए हर जरूरी मदद की गई।
कर्ज माफी के आवेदन के लिए जरूरी सारी प्रक्रिया पूरी की गई है। इन 14 कैदियों के आवेदन को पात्र मानकर उनका पंजीयन किया गया। छत्रपति शिवाजी महाराज किसान सम्मान योजना के तहत दी जा रही कर्ज माफी के ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 15 सितंबर थी। कैदियों के परिजन को गांव के पंजीयन केंद्र में जाकर ऑनलाइन आवेदन करने के संबंध में भी मार्गदर्शन किया गया। जिला समन्वयक उमेश घुगुसकर व आनंद पटले ने ऑनलाइन पंजीयन के लिए सहयोग किया।
उल्लेखनीय है कि मप्र का किसान आंदोलन राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में रहा था। परेशान किसानों ने उग्र होकर बसों तक को जला दिया था। पुलिस फायरिंग में कई किसानों की मौत हुई थी, इसके बावजूद सरकार प्रदेश के किसानों का कर्ज माफ करने का निर्णय नहीं ले पाई। हालांकि आंदोलन के बाद ही किसानों की प्याज ८ रुपए प्रति किलोग्राम के मान से खरीदी गई थी। कई जगह तो प्याज सड गई थी और इसके बाद ही प्याज की कमी आ गई थी और प्याज के भाव ८० रुपए तक जा पहुंचे थे। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned