जिले के प्राथमिक-माध्यमिक 348 स्कूलों को मिलेगी सीबीएसइ से मान्यता, जानें वजह

- छिंदवाड़ा समेत प्रदेश से 10 हजार स्कूलों का होगा चयन, गुणवत्तायुक्त शिक्षा और ड्रॉपआउट कम करना उद्देश्य

By: Dinesh Sahu

Published: 17 Oct 2020, 12:21 PM IST

छिंदवाड़ा/ सीएम राइज के तहत छिंदवाड़ा जिले के लिए 348 स्कूलों का चयन किया जाना है। इसके लिए राज्य शिक्षा केंद्र भोपाल ने प्रत्येक जनशिक्षा केंद्र अंतर्गत संचालित स्कूलों की संख्या के तहत लक्षित स्कूलों की संंख्या जारी की है। संकुल प्राचार्यों एवं जनशिक्षकों द्वारा स्कूलों का भौतिक सत्यापन कर विमर्श पोर्टल अपडेट कर लॉक कर दिया जाएगा, जिसके बाद जिला शिक्षा अधिकारी और विकासखंड शिक्षा अधिकारी के लॉगिन पर सत्यापित स्कूलों को वरियता के आधार स्कोर अंक देंगे।

इसके बाद ही अंतिम सूची जारी की जाएगी। बता दें कि नर्सरी से लेकर कक्षा बारहवीं तक के समग्र/एकीकृत स्कूलों का संचालन कर बच्चों की ट्रांजिशन दर को बढ़ाना तथा ड्रॉपआउट दर को कम करना, विद्यार्थियों में आधुनिक क्षमताओं या दक्षताओं को विकसित करने के लिए स्कूलों को आधुनिक उपकरणों, प्राविधियों तथा तकनीक से लैस किया जाना है।


सीबीएसइ से मिलेगी मान्यता -


मप्र शासन स्कूल शिक्षा विभाग शिक्षा के लोक व्यापीकरण एवं गुणवत्तायुक्त शिक्षा प्रदाय करने का निर्णय लिया है। नई शिक्षा नीति 2020 के अंतर्गत गुणवत्तायुक्त शिक्षा एवं भविष्य में उत्कृष्ट नागरिकों के विकास के लिए शिक्षा एवं उपलब्ध संसाधनों को परिणाममूलक बनाया जाना है। बच्चों के समग्र विकास के लिए खेलकूद, सांस्कृतिक एवं साहित्यिक आदि गतिविधियों के लिए बड़े स्कूलों को विकसित कर उपयुक्त वातावरण निर्मित किया जाना है। साथ ही नर्सरी से लेकर कक्षा बारहवीं तक हिन्दी के साथ-साथ अंग्रेजी माध्यम की कक्षाएं भी संचालित होनी है तथा सीएम राइज स्कूलों को सीबीएसइ से मान्यता के रूप में परिवर्तन किया जाना है।


ऐसे होगा सीएम राइज के तहत स्कूलों का चयन -


राज्य स्तर से स्कूल शिक्षा विभाग एवं आदिम जाति कल्याण विभाग अंतर्गत संचालित स्कूलों के यू-डाइस एवं अन्य स्रोतो से उपलब्ध डाटा के आधार पर प्रति जनशिक्षा पांच स्कूलों का चयन किया जाएगा। इसके लिए ऐसे स्कूल जिनमें न्यूनतम 1000 बच्चों के लिए आवश्यकतानुसार कक्षा कक्ष, खेल मैदान, लाइब्रेरी, कम्प्यूटर लैब आदि निर्मित करने के लिए पर्याप्त जमीन हो, स्कूल का बसाहटों के समीप होना, एक शाला एक परिसर होना, आइसीटी की उपलब्धता, नामांकन आदि की सुविधा होना आवश्यक है।


यह दिया गया है लक्ष्य -


विकासखंड जनपद केंद्र अंगर्तत संचालित स्कूल लक्ष्य


छिंदवाड़ा 265 28
मोहखेड़ 258 26
परासिया 324 34
जुन्नारदेव 571 58
तामिया 388 40
सौंसर 184 19
बिछुआ 239 24
पांढुर्ना 251 25
अमरवाड़ा 224 24
हर्रई 456 45
चौरई 242 25

Show More
Dinesh Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned