41 महिलाओं सहित 97 गिरफ्तार

राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर एनआरसी को वापस लिए जाने की मांग शामिल है।

By: arun garhewal

Published: 07 Mar 2020, 11:31 PM IST

छिंदवाड़ा. परासिया. पेंच स्टाफ क्लब में अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर सीटू यूनियन पेंच कन्हान द्वारा समस्याओं के समाधान के लिए राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंपा गया। इसके पहले महिला संगठन द्वारा बैठक में महिला सशक्तिकरण एवं महिलाओं के विरुद्ध अत्याचार शोषण को लेकर चिंता व्यक्त की गई।
संगठन में शामिल महिला पुरुषों ने नारेबाजी करते हुए अपनी गिरफ्तारी दी। एसडीएम नम: शिवाय अरजरिया ने बताया कि कानून का उल्लंघन करने पर धारा 151 के अंतर्गत पेंच स्टाफ क्लब परिसर में बनाई गई अस्थाई जेल में 41 महिलाओं सहित कुल 97 लोगों को गिरफ्तार कर रखा गया जिन्हें बाद में मुचलके पर रिहा किया गया। इन मांगों को लेकर ज्ञापन: देश में महिलाओ स्कूली छात्राओ तथा मासूम बच्चियों के साथ लगातार हो रही लैगिंक हिंसा, बलात्कार हत्या एवं अत्याचार के विरुद्ध सरकार सख्त कानून लाकर फास्ट ट्रेक कोर्ट में प्रतिदिन मुकदमों की सुनवाई कर दोषियों को दण्डित किया जाये। महिलाओं को दोयम दर्जे के नागरिक के रुप मे व्यवहार करने के प्रचलित सामाजिक मान्यताओं को समाप्त कर बराबरी का दर्जा दिया जावे। स्कीम वर्कर्स को वर्कस की मान्यता दी जाये।
सभी चुनी जाने वाली संस्थाओ मे महिलाओ का 33 प्रतिशत आरक्षण सुनिश्चित किया जाए। धर्म के नाम पर सरकार द्वारा फैलायी जा रही प्रायोजित हिंसा, साम्प्रदायिक दंगें जातिवाद और धार्मिक उन्माद पर तत्काल रोक लगाई जाए। संविधान विरोधी कानून नागरिकता संशोधन अधिनियम सीएए को तत्काल रद्द किया जाये। राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर एनआरसी को वापस लिए जाने की मांग शामिल है।
यह रहे उपस्थित: आंदोलन में सीटू यूनियन अध्यक्ष अमरनाथ सिंह, सचिव मीर हसन, लोचन प्रसाद, मारकंडे मिश्रा, अशोक भारती, राजेश राव, संतोष साहू, विकास सातनकर, महेश सोनी, कुसुम बडोनिया, उषा भारती, प्रमिला निगम, रीता बागडे, सुनंदा सोनी, उर्मिला भारती सुषमा सातनकर, रीता साहनी, माला चौधरी, मीना यादव सहित महिला कार्यकर्ता उपस्थित रही।

arun garhewal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned