Action on colonizers: न डायवर्सन कराया न अनुमति ली, दस अवैध कॉलोनाइजर्स की तोड़ी सीमाएं

एसडीएम की अगुआई में खजरी, पोआमा, परतला और काराबोह पहुंची निगम और राजस्व की टीम

By: prabha shankar

Updated: 19 Mar 2021, 11:50 AM IST

छिंदवाड़ा। जमीन का डायवर्सन नहीं कराकर कृषि भूमि को सीधे प्लॉट के रूप में बेच रहे अवैध कॉलोनाइजर्स पर प्रशासन ने गुरुवार को फिर शिकंजा कसा। एसडीएम अतुल सिंह की अगुआई में निगम, राजस्व और पुलिस की टीम ने खजरी,पोआमा, परतला और काराबोह पहुंचकर कार्रवाई की।
निगम की जेसीबी मशीन ने इन कॉलोनाइजर्स द्वारा जमीन पर बनाई गई खंभे-तार की सीमाएं तोड़ीं और रोड व नाली ध्वस्त किए। इन लोगों को पहले कृषि भूमि से व्यावसायिक भूमि इस्तेमाल के लिए डायवर्सन कराना था। इसके लिए कलेक्टर लाइसेंस देते हैं। इसके अलावा नगर निगम से विकास अनुमति लेनी थी। इन्होंने कृषि भूमि को सीधे लोगों को बेचना शुरू कर दिया। इससे सरकारी नियमों का उल्लंघन हुआ है। इससे पहले भी 11 कॉलोनाइजर्स की जमीन पर बनाई गई सीमाएं तोड़ी गई थीं। इसके बाद नगर निगम द्वारा जमीन स्वामी और डेवलपर्स को नोटिस दिए गए थे।
फिलहाल इस कार्रवाई में तहसीलदार, निगम उपायुक्त एनएस बघेल समेत राजस्व, पुलिस और निगम कर्मचारी शामिल हुए।

अनुबंध कर सीधे जमीन बेचने का खेल
यह तथ्य भी सामने आया कि कॉलोनी डेवलपर्स पहले कृषि भूमि स्वामी से जमीन का सौदा कर अनुबंध कर लेते हैं और उनके नाम से सीधे जमीन संबंधित व्यक्ति को बेचते हैं और रजिस्ट्री में विक्रेता जमीन मालिक ही होता है। जब कार्रवाई की बारी आती है तो सीधे जमीन मालिक पर गाज गिरती है।

Show More
prabha shankar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned