समस्या का होगा समाधान...पर लापरवाही पर होगी कार्रवाई, जानें वजह

- एएनएम के कार्यों और दायित्वों के निर्वहन पर कलेक्टर ने दिखाई सख्ती, स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास विभाग की समीक्षा बैठक

By: Dinesh Sahu

Published: 30 Oct 2020, 12:40 PM IST

छिंदवाड़ा/ स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाए जा रहे प्राथमिकता वाले समस्त कार्यक्रमों में एएनएम द्वारा लक्ष्य पूर्ति की प्रगति रिपोर्ट तैयार की जाएगी तथा लापरवाही बरतने वाली एएनएम के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। हालांकि कोई समस्या या कठिनाई आने पर सुधार भी किया जाएगा, लेकिन नियमित स्थिति बने रहने पर कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। यह कहना कलेक्टर सौरभ कुमार सुमन का है, वे गुरुवार को कलेक्ट्रेट सभा कक्ष में आयोजित स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास विभाग की समीक्षा कर बोल रहे थे।

कलेक्टर सुमन ने ब्लाकवार एसडीएम की अध्यक्षता में बीएमओ प्रति सप्ताह एएनएम के कार्यों की समीक्षा बैठक आयोजित करेंगे तथा एएनएम, आशा कार्यकर्ता समेत अन्य के कार्यों की जानकारी एकत्रित करने के निर्देश सीएमएचओ और सभी ब्लाक मेडिकल ऑफिसर्स को दिए है। बैठक में सीएमएचओ डॉ. जीसी चौरसिया, जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी डॉ. मोनिका बिसेन, बीएमओ, बाल विकास परियोजना अधिकारी समेत अन्य मौजूद थे।


शिशु एवं मातृ स्वास्थ्य में लाया जाएं सुधार -


जिले में शिशु एवं मातृ स्वास्थ्य में बेहतर कार्य करने की हिदायत कलेक्टर सुमन ने दी है और स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास विभाग को आपस में समन्वय बनाकर योजनाबद्ध तरीके से कार्य करने की सलाह दी है। साथ ही पांच वर्ष तक के बच्चों के पोषण स्तर की जांच व वर्गीकरण उचित किया जाना, अति कुपोषित बच्चों पर विशेष ध्यान देना, पोषण पुनर्वास केंद्र में बच्चों को भर्ती करने के लिए परिजनों को प्रेरित करना, गर्भवतियों की विस्तृत जानकारी रखना, एएनसी कार्ड बनाना, प्रसव पूर्व सभी जांच अनिवार्य रूप से होना, प्रोटोकाल के तहत उपचार देना, संस्थागत प्रसव के महत्व को समझाना, माताओं-शिशुओं का सम्पूर्ण टीकाकरण सुनिश्चित करना आदि निर्देश दिए गए है।


असंचारी रोगियों के चिन्हाकन और उचित हो उपचार प्रबंधन


असंचारी रोग कार्यक्रम के तहत जिले में 30 वर्ष की आयु से अधिक उम्र के लोगों की पहचान के लिए चलाए जा रहे एनसीडी कार्यक्रम में अपेक्षित लक्ष्य के विरुद्ध स्क्रीनिंग और परीक्षण कार्य शत-प्रतिशत पूर्ण करने के निर्देश कलेक्टर सौरभ कुमार सुमन ने दिए है। उन्होंने कहा कि मरीजों की केवल स्क्रीनिंग और परीक्षण कार्य ही पर्याप्त नहीं है, बल्कि चिन्हित व्यक्तियों को समय पर दवाइयां भी उपलब्ध होनी चाहिए।

साथ ही सम्बंधित के स्वास्थ्य का फॉलोअप भी लिया जाना चाहिए। कलेक्टर सुमन ने कहा कि सम्पूर्ण टीकाकरण, एनसीडी कार्यक्रम और टीबी रोग उन्मुलन कार्यक्रम के अपेक्षित लक्ष्य को भी एक माह के भीतर सुधार लाना है। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना तथा लाड़ली लक्ष्मी योजना में लक्ष्यपूर्ति एवं अक्षिता कार्यक्रम की अद्यतन स्थिति का भी परीक्षण किया।

COVID-19
Show More
Dinesh Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned