scriptAdministration woke up but late, why read this news | Administration: प्रशासन जागा मगर देर से, क्यों पढ़ें यह खबर | Patrika News

Administration: प्रशासन जागा मगर देर से, क्यों पढ़ें यह खबर

मकर संक्रांति के ठीक एक दिन पहले नगर निगम और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के संयुक्त अमले ने गुरुवार को बाजार की विभिन्न दुकानों पर दबिश देकर चाइनीज मांजा तलाशा

छिंदवाड़ा

Published: January 14, 2022 12:15:03 pm

छिंदवाड़ा. मकर संक्रांति के ठीक एक दिन पहले नगर निगम और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के संयुक्त अमले ने गुरुवार को बाजार की विभिन्न दुकानों पर दबिश देकर चाइनीज मांजा तलाशा टीम ने शहर की तीन बड़ी दुकान से प्रतिबंधित मांजा जब्त किया है। कार्रवाई प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के निर्देश पर की गई है।

नगर निगम का अमला प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से निर्देश मिलने के बाद और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के कर्मचारियों के पहुंचने पर बाजार में कार्रवाई के लिए पहुंचे। बाजार से लगभग खरीदी होने के बाद अमला मकर संक्रांति पर पतंग उड़ाने के लिए मांजा का जमकर इस्तेमाल होता है, ठीक एक दिन पहले कार्रवाई करने पहुंचा। दोपहर से देर शाम तक चली इस कार्रवाई में तीन दुकानों से टीम ने मांजा जब्त कर नियमानुसार कार्रवाई की है, लेकिन इस पर सवाल यह उठ रहा है कि आखिर हादसा होने के बाद ही नगर निगम प्रशासन क्यों जागता है, इसके पहले कार्रवाई क्यों नहीं की जाती ताकि बाजार में चाइनीज मांजा दुकानों तक न पहुंचे और अगर पहुंचे तो वह आम लोगों के हाथों तक पहुंचने से पहले ही जब्त किया जा सके। मकर संक्रांति के ठीक एक दिन पहले बाजार में कार्रवाई करने निकले अमले के लगभग हाथ खाली थे, क्योंकि चाइनीज मांजा लोगों के हाथों में पहुंच चुका था।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के निर्देश
प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय प्रबंधक अविनाश करेरा ने बताया कि एनजीटी के द्वारा इस तरह के चाइनीज मांगा जिसमें लायलोन का इस्तेमाल किया जाता है। उपयोग पर पूर्णत: प्रतिबंध लगाए। नगरीय निकाय और नगरीय प्रशासन बिक्री को प्रतिबंधित करें। कुछ लोग ऐसा मंजा बनाते हैं जिससे लोग चोटिल होते हैं साथ ही पशु और पक्षियों को भी नुकसान पहुंचाते हैं। आज एनजीटी के निर्देश पर एक संयुक्त टीम बनाकर बाजार में कार्रवाई के लिए भेजी गई है।

मनुष्य ही नहीं पशु पक्षियों को भी नुकसान
पतंग उड़ाने के लिए चाइनीज मांजा का इस्तेमाल होता है, क्योंकि यह ऐसा धागा होता है जो लायलोन के साथ अन्य वस्तुओं के मिश्रण से तैयार किया जाता है जो आसानी से नहीं कटता है। इससे मनुष्य ही नहीं पशु और पक्षियों को भी नुकसान है। हाल में एक व्यक्ति इसी तरह के धागे की चपेट में आने से घायल हुआ था। अक्सर मकर संक्रांति के पहले और कुछ दिन बाद तक इस तरह के हादसे सामने आते हैं।

patrika_samachar.jpg
patrika_samachar.jpg

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Corona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरGhana: विनाशकारी विस्फोट में 17 लोगों की मौत, 59 घायलभारत ने जानवरों के लिए विकसित किया पहला कोरोना वैक्सीन,अब शेर और तेंदुए पर ट्रायल की योजना50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीT20 World Cup 2022: ICC ने जारी किया शेड्यूल, इस दिन होगी भारत-पाकिस्तान की टक्करआज जारी होगा कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं के लिए होंगे कई वादे'कुछ लोग देशप्रेम व बलिदान नहीं समझ सकते', अमर जवान ज्योति के वॉर मेमोरियल में विलय पर राहुल गांधीVIDEO: राजस्थान का 35 प्रतिशत हिस्सा कोहरे से ढका, अब रहेगा बारिश और ओलावृष्टि का जोर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.