आर्मी वर्म से बचाव के लिए करने होंगे ये उपाय

आर्मी वर्म से बचाव के लिए करने होंगे ये उपाय
Advice for Army worm

Prabha Shankar Giri | Updated: 05 Jun 2019, 08:00:00 AM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

किसानों को लगातार जागरूक कर रहा विभाग

छिंदवाड़ा. मक्का को आर्मी वर्म फाल से बचाने के लिए कृषि वैज्ञानिक लगातार किसानों को सलाह दे रहे हैं। वे अनुशंसित बीज और दवा का प्रयोग करने किसानों को कह रहे हैं। विभाग का कहना है कि कीट पर नियंत्रण मॉनटरिंग, कल्चरल विधि, यांत्रिक विधि, जैविक विधि और रासायनिक विधि से किया जा सकता है। मॉनिटरिंग के लिए चार ट्रैप प्रति एकड़ फेरोमोन ट्रेप का उपयोग किसान कर सकते हैं। इसी तरह कल्चरल विधि में किसानों को बोनी के पहले गहरी जुताई करने कहा गया है जिससे फाल आर्मी वार्म कीट की शंखिया बाहर आकर परभक्षी कीट द्वारा उनको नष्ट किया जा सकता है। समय पर बोनी कर और बीज को सीधे लाइन में डालने की सलाह भी मैदानी अधिकारी दे रहे हैं। दाल वर्गीय फसल को मक्का के साथ लेने से भी कीटों का प्रभाव कम किया जा सकता है। मक्का के साथ अरहर, मूंग और उड़द की फसल बोने कहा जा रहा है।
कीट विशेषज्ञों ने किसानों से कहा है कि मक्का में कीट के अंडे या इल्ली दिखे तो उन्हेें हाथों से इक_ा कर नष्ट किया जा सकता है। इसके अलावा कीट से ग्रसित पौधों में राख और सूखी रेत या फिर लकड़ी का बुरादा पौधों की पोंगली में डाला जा सकता है। रासायनिक विधि से बीजोपचार करने के बाद ही बोवनी करने से भी इस कीट के प्रभाव से फसल को मुक्त रखा जा सकता है। इसके लिए इमिडाक्लोप्रिड 30.5 एससी छह मिमी प्रति किलोग्राम बीज या क्लोरपायरीफास 20 इसी पांच मिमी प्रति किलो बीज को कीटनाशक से उपचारित करने पर फाल आर्मी वर्म कीट के नुकसान को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। इसके अलावा क्लोरपायरीफास 20 इसी दवा 2 मिमी या स्पिनोसड 45 एससी 0.3 मिमी या इमामेक्टीन बेन्झोएट 5एसजी 0.4 ग्राम दवा प्रति लीटर पानी में घोल बनाकर छिडक़ाव करने कहा गया है।

जहरीला प्रपंच भी होगा कारगर
इसके लिए 10 किलो धान के भूसे में दो किलो गुड और दो से तीन लीटर पानी मिलाकर घोल को 24 घंटे तक के लिए रखे। बाद में इसमें 100 ग्राम थायोडीकार्ब दवा मिलाएं और पौधों की पोंगली में डाले। इससे भी कीट के प्रभाव से मुक्ति मिल सकती है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned