Alert: अंकुरण न होने वाले बीज बेच रहीं हैं नामी कम्पनियां

ठोस कार्रवाई पर उठा सवाल, कृषि विभाग द्वारा लगाया गया विक्रय पर प्रतिबंध

By: prabha shankar

Published: 15 Nov 2020, 06:18 PM IST

छिंदवाड़ा. खरीफ सीजन की तरह रबी में भी गेहूं का अंकुरण न होने वाले बीजों को नामी कम्पनियां बेच रहीं हैं। कृषि विभाग की प्रयोगशाला में लगातार बीज सेम्पल फेल होने और विक्रय पर प्रतिबंध से यह स्पष्ट हुआ है। अब सवाल यह उठ रहा है कि इन कम्पनियों पर ठोस कार्रवाई कैसे हो? जब विभागीय अधिकारियों के पास लाइसेंस स्थानीय स्तर पर निलम्बित करने का विकल्प है।
कृषि विभाग की जानकारी के अनुसार रबी सीजन में विभिन्न कम्पनियों के गेहूं की अलग-अलग किस्मों के बीज के 156 सेम्पल लिए गए थे। इनमें से अब तक प्रयोगशाला की जांच में 22 सेम्पल फेल हो चुके हैं। इनमें नौ राज्य बीज निगम के हैं तो शेष नामी कम्पनियों के हैं।
इस जांच के परिणाम से साफ है कि कम्पनियों द्वारा बीजों की पैकिंग करने से पहले उसके अंकुरण की जांच ठीक ढंग से नहीं की जा रही है। इससे ये बीज किसानों के खेत में पहुंचकर अंकुरित नहीं हो पाते। इसका प्रतिशत कम आने पर प्रयोगशाला के मानक उसे फेल कर देते हैं। ये सिलसिला लगभग पूरे साल भर चलता है।
किसान भी कम्पनियों की चमकीली बीज पैकिंग में फंस जाते हैं। आखिर में उन्हें इसका नुकसान उठाना पड़ता है। फिर कम्पनियों पर ठोस कार्रवाई नहीं हो पाती। इससे दोबारा ये सक्रिय हो जाती है।


इनका कहना है
कृषि विभाग की प्रयोगशाला में कंपनियों और राज्य बीज निगम के गेहूं बीज सेम्पल फेल हुए हैं। उन पर कार्रवाई के लिए प्रथम दृष्टया नोटिस जारी किया गया है। संतोषजनक जवाब न आने पर उनके लाइसेंस निलम्बित किए जाएंगे।
जेआरहेडाऊ, उपसंचालक, कृषि

Show More
prabha shankar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned