Awareness ; छात्रों को किया एड्स के प्रति जागरुक

कॉलेज में कार्यक्रम : एड्स से बचाव के तरीके बताए

By: Rajendra Sharma

Published: 03 Dec 2019, 07:34 AM IST

छिंदवाड़ा/ एड्स एक भयावह बीमारी है और इसका कोई इलाज नहीं है। समय रहते युवा एड्स के प्रति सजग नहीं हुए तो दिनों-दिन एड्स के रोगियों की संख्या में वृद्धि होती रहेगी। एड्स से बचने के उपाय जानने के लिए विकासखंड बिछुआ में शासकीय कॉलेज एवं कुकड़ा ग्राम उत्थान समिति के तत्वावधान में जन जागरुकता कार्यक्रम विश्व एड्स दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित किया गया।
कॉलेज प्राचार्य जेपी यादव के निर्देशन में एड्स काउंसलर श्यामल राव, अतिथि विद्वान डॉ. कपिल खरे, संतोष चंचल, पीएलवी उमेश साहू, विलास इंदौरकर ने मार्गदर्शन दिया। इस अवसर पर परामर्शदाता श्यामल राव ने युवाओं को ‘हम सब ने यह ठाना है एड्स को भगाना है’ इस वाक्य को चरितार्थ करते हुए मार्गदर्शन दिया। युवाओं को एचआइवी एड्स के अंतर को स्पस्ट करते हुए इनकी बारीकियों से अवगत कराया। एड्स किन चार कारणों से फैलता है और किस तरह एक मानव से दूसरे मानव को एचआइवी से संक्रमित करता है एवं इसका उपचार एआरटी के माध्यम से किया जा सकता है। वहीं विंडो पीरीयड क्या है इसकी रोकथाम करने के संबंध में उपाय बताए गए। एड्स एक ला इलाज बीमारी है रोकथाम ही इसका बेहतर उपाय से संबंधित प्राचार सामग्री उपस्थित बीएसडब्ल्यू के छात्रों को वितरित की। डॉ.कपिल खरे ने छात्रों से आह्वान किया कि एड्स से बचने के लिए अपने-अपने ग्रामों एड्स जैसे बीमारी से निजात दिलाने के लिए अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार करें। प्रो. संतोष चंचल ने उपस्थित छात्र-छात्राओं से प्रश्नोत्तरी के माध्यम से एड्स के विषय में कितनी समझ है और उनकी जिज्ञासाओं का समाधान भी किया।

Show More
Rajendra Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned