जननी एक्सप्रेस में मरीज के परिवहन पर बवाल

Dinesh Sahu

Publish: Mar, 17 2019 12:23:26 PM (IST)

Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

छिंदवाड़ा। जननी एक्सप्रेस में मरीज के परिवहन और आशा कार्यकर्ता के सामने की सीट पर बैठने की बात पर विवाद उपज गया। मरीज के परिजन तथा एंबुलेंस चालक एक दूसरों पर दुव्र्यवहार का आरोप लगाकर झगड़ते रहे। इसके चलते जिला अस्पताल के सिविल सर्जन कार्यालय के सामने लोगों की भीड़ एकत्रित हो गई। घटना शनिवार दोपहर 3 बजे की है। दरअसल परासिया निवासी मरीज शबनम खान की डिलेवरी जिला अस्पताल के गायनिक विभाग में हुई थी।

 

डिस्चार्ज के बाद आशा कार्यकर्ता मंजू सराठे ने 108 को फोन लगाया तो उन्हें उभेगांव पाइंट की जननी एक्सप्रेस एंबुलेंस वाहन उपलब्ध कराई गई। आशा कार्यकर्ता ने बताया कि मरीज का सीजर ऑपरेशन होने तथा अटेंडर साथ होने से एंबुलेंस के पीछे की तरफ लिटाया गया। साथ ही सामने की सीट पर आशा कार्यकर्ता ने बैठने की इच्छा जताई, इस बात पर चालक और परिजन के साथ-साथ आशा कार्यकर्ता विवाद करने लगे।

 

इधर विवाद के बढऩे के बाद जननी एंबुलेंस चालक ने मरीज के परिवहन से इनकार कर दिया तथा सामान भी उतार दिया। जिसके बाद परिजन ने ऑटो से मरीज को लेकर गए।वहीं चालक कमल आठनकर ने बताया कि प्रोटोकॉल के तहत सामने की सीट पर किसी को नहीं बैठाया जा सकता है। गालीगलौच और दुव्र्यवहार के कारण विवाद हुआ है। हमने एंबुलेंस से मरीज और उनके सामान को नहीं उतारा है, वह स्वयं ही लेकर गए है।

परासिया 108 चालक बर्खास्त -

परासिया लोकेशन अंतर्गत संचालित इमरजेंसी एंबुलेंस 108 के पायलट द्वारा मरीज के परिजन से दो सौ रुपए मांगे थे। इसकी शिकायत होने तथा जांच के बाद पायलट को कम्पनी ने बर्खास्त कर दिया। एंबुलेंस जिला प्रबंधक प्रभजोत सिंह ने बताया कि मामले में कार्रवाई के बाद शिकायतकर्ता को पैसे वापस लौटा दिया गया तथा रिपोर्ट विभाग को भेज दी गई है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned