बड़ी खबर: 30 लाख नकद और 80 लाख के आभूषण बरामद, जानें क्या है मामला

रैकेट के तार अकोला, मुंबई और नागपुर से जुड़े हैं

By: Rajendra Sharma

Published: 09 Dec 2017, 12:33 PM IST

छिंदवाड़ा/नागपुर. हवाला एजेंटों से 30 लाख नकद और 80 लाख के आभूषण रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने बरामद किए हैं। इस तरह कुरियर कंपनी की आड़ में चल रहे हवाला कारोबार का पर्दाफाश किया गया है।
जानकारी के अनुसार गोपनीय सूचना के आधार पर आरपीएफ ने 2 हवाला एजेंट को गिरफ्तार किया। दोनों एजेंट दूरंतो एक्सप्रेस में नकद, सोना, चांदी और हीरे जडि़त जेवरात की तस्करी कर रहे थे। कुरियर कंपनी की आड़ में चल रहे हवाला कारोबार का पर्दाफाश तो आरपीएफ ने कर दिया है, लेकिन अब कारोबारियों पर क्या कार्रवाई होती है इस पर सभी की नजर है।
बताया जाता है कि इस रैकेट के तार अकोला, मुंबई और नागपुर से जुड़े हैं। आरपीएफ के इंस्पेक्टर भगवान इप्पर और उनकी टीम को मुखबिर से जानकारी मिली थी कि प्लेटफार्म क्रमांक-8 से रवाना होने वाली दूरंतो एक्सप्रेस में एक कुरियर एजेंट हवाला की रकम ले जा रहा है। आरपीएफ के इंस्पेक्टर भगवान के साथ एएसआई संजय पुरकाम, विजय पाटिल, डीडी वानखेड़े, किशोर चौधरी और नीलकंठ गोरे ने पूरी ट्रेन की जांच शुरू की। एस-7 बोगी में पुलिस को कुटासा, अकोला निवासी महेंद्र नाजुकराव तरोड़े (31) बैग लिए संदेहास्पद स्थिति में दिखाई दिया। आरपीएफ की टीम को देखते ही उसको पसीना छूट गया। संदेह के आधार पर उसे हिरासत में लिया गया। तलाशी लेने पर पुलिस को 30 लाख रुपए नकद बरामद हुए। रुपयों के बारे में पूछताछ करने पर वह संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया। उसे थाने ले जाया गया। खबर मिलते ही वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त ज्योतिकुमार सतीजा भी थाने पहुंचे। उन्होंने महेंद्र से बारीकी से पूछताछ की। तब उसने बताया कि वह अकोला की इंद्रायणी कुरियर और लॉजिस्टिक कंपनी में बतौर एजेंट काम करता है। उसे रुपए लेकर मुंबई भेजा जा रहा था। अधिक रकम होने के कारण आरपीएफ ने मामले की जानकारी आयकर विभाग को दी। उसे आयकर विभाग के हवाले किया गया।
महेंद्र से पूछताछ के दौरान आरपीएफ को जानकारी मिली कि कुरियर कंपनी में ही काम करने वाला श्याम बंकुवाले (38) नामक एजेंट गुरुवार की सुबह नागपुर आने वाली दूरंतो एक्सप्रेस से सोने-चांदी के जेवरात लेकर आ रहा है। खबर मिलते ही ट्रेन में तैनात जवानों को अलर्ट कर दिया गया, लेकिन वह किस बोगी में सवार है यह महेंद्र नहीं जानता था। आरपीएफ की टीम ने गुरुवार की सुबह 9.15 बजे नागपुर स्टेशन के प्लेटफार्म क्रमांक-8 पर पहुंचने वाली दूरंतो एक्सप्रेस को घेर लिया। सभी बोगी में लगी रिजर्वेशन चार्ट की जांच की गई। श्याम एस-7 बोगी की सीट -49 पर सवार होने का पता चला। ट्रेन से नीचे उतरते ही आरपीएफ टीम ने उसे पकड़ लिया। तलाशी लेने पर पुलिस को 2.309 किलो ग्राम के सोने के जेवरात, 29.74 कैरेट के हीरे के आभूषण और 3.601 किलो ग्राम के चांदी के जेवरात बरामद हुए। इसकी कुल कीमत 80 लाख रुपए से ज्यादा बताई जा रही है। इंद्रायणी कुरियर का मुख्य कार्यालय अकोला के गांधी रोड पर है। बताया जाता है कि कुरियर एजेंसी के नाम पर कंपनी का संचालक मुंबई और नागपुर के बीच हवाला कारोबार करवाता है। आगे की जांच के लिए आरपीएफ ने पकड़े गए माल सहित दोनों को आयकर विभाग के हवाले कर दिया है।

Rajendra Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned