हजारों की बिजली खपत पर सौ रुपए बिल

जिले में 1.97 लाख उपभोक्ता अब इंदिरा गृह ज्योति योजना में शामिल

छिंदवाड़ा.आप यदि ‘सरकारी गरीब’हो तो खूब जलाओ बिजली,बिल तोकेवल सौ रुपए ही आएगा। शिवराज सरकार के समय से चले रहे इस फंडा ने इस भीषण गर्मी में दबंग,संपन्न और प्रभावशाली लोगों की चांदी कर दी है। उनके घर में 24 घंटे पंखे,कूलर और एयर कंडीशर समेत अन्य बिजली उपकरण खुलकर चल रहे हैं और बिल केवल सौ-दो सौ के अंदर आ रहा है। ऐसे में ईमानदार आम उपभोक्ता हजारों रुपए के बिल को चौंक रहा है और उसे उनके फीड गुड को देखकर गुस्सा आ रहा है।
पिछले साल 2018 में नवम्बर से पहले पिछली सरकार ने चुनावी लाभ के लिए सरल बिजली बिल योजना लागू की और संबल के हितग्राहियों का पंजीयन भी करा दिया। इससे बिल्डिंग से लेकर संपन्न और प्रभावशाली भी शामिल हो गए। पहले तो उन्हें दो सौ रुपए बिजली बिल आया। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सरकार आई तो उसने भी इन हितग्राहियों पर मेहरबानी दिखाते हुए सरल का नाम बदलकर इंदिरा गृह ज्योति योजना लागू कर दी और दो रुपए की जगह सौ रुपए में सौ यूनिट बिजली का बिल का प्रावधान कर दिया। इस दौरान किसी ने भी अपात्र लोगों की जांच के विषय में नहीं सोचा। इसके चलते हालात यह है कि अपात्र परिवार 24 घंटे खुलकर बिजली का उपयोग कर रहे हैं और विद्युत उपकरण में खूब हजारों रुपए की बिजली उड़ा रहे हैं लेकिन उन्हें बिल सिर्फ सौ रुपए या ज्यादा से ज्यादा दो सौ रुपए आ रहा है। जबकि दूसरे ईमानदार उपभोक्ताओं को इस जून माह में हजारों रुपए के बिजली बिल का करंट लग रहा है।
.....
इंदिरा गृह ज्योति में 1.97 लाख उपभोक्ता
पूरे जिले में बिजली के निम्न और उच्च दाब के करीब 5 लाख उपभोक्ता है। इनमें से 1.97 लाख उपभोक्ताओं को इंदिरा गृह ज्योति योजना का लाभ दिया गया है। पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के रिकार्ड में अभी 25 हजार ऐसे उपभोक्ता कतार में हैं,जिन्हें चुनाव के बाद पोर्टल शुरू होने का इंतजार हैं। कम्पनी अधिकारियों का कहना है कि अभी कम्पनी का फोकस मौजूदा उपभोक्ताओं को ही बिजली उपलब्ध कराना है इसलिए इस पर ध्यान नहीं दिया गया है। उनके अनुसार सरकारी नीति के चलते ऐसे उपभोक्ताओं को सस्ती बिजली उपलब्ध कराना मजबूरी है।

जांच कराई जाए तो निकल जाएंगे अपात्र
गरीबी रेखा के नीचे परिवारों की जांच में जिस तरह हजारों अपात्र निकलकर सामने आए थे,उसी तरह की जांच इंदिरा गृह ज्योति योजना की कराई जाए तो बड़े प्रभावशाली व संपन्न लोगों की सूची सामने आ जाएगी। ये लोग हजारों रुपए की बिजली उड़ाने के बाद सौ रुपए का बिल जमा कर रहे हैं। पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारियों को इस मामले में संज्ञान में लेना होगा।

आपूर्ति में कर्मचारियों की नींद उड़ी,उधर अलग हो रही कटौती की जासूसी
बिजली आपूर्ति के दबाव के चलते इस समय पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारी-कर्मचारियों की नींद उड़ी हुई है। मुख्यमंत्री का क्षेत्र होने से उन्हें हाईअलर्ट पर रखा गया है। उनसे बिजली आपूर्ति व कटौती की रिपोर्ट प्रतिदिन दो समय ली जा रही है। उस पर दूसरे विभागों के कर्मचारियों से अलग जासूसी कराई जा रही है कि उनकी रिपोर्ट सहीं है या नहीं। आम जनता में बिजली का फीडबैक क्या है। कम्पनी अधिकारी खुद स्वीकार कर रहे हैं कि पंचायत सचिव,पटवारी और पुलिस तक से गांव से लेकर शहर तक की बिजली आपूर्ति का फीड बैक मांगा जा रहा है और इसका मिलान कम्पनी की रिपोर्ट से हो रहा है।
....
सीएम के क्षेत्र पर कुछ नहीं बोले ऊर्जा मंत्री
प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रियवर सिंह ने जबलपुर में बुधवार को संभाग के जिलों की बिजली आपूर्ति की समीक्षा की। इस दौरान जिले से कम्पनी के संभागीय अभियंता शामिल हुए। इस दौरान हर जिले की कुछ न कुछ शिकायत आई। ऊ र्जा मंत्री जब सीएम के गृह जिले छिंदवाड़ा पर कुछ नहीं बोले तो बिजली अधिकारियों ने राहत की सांस ली। मंत्री ने हर अधिकारियों को जरूर निर्धारित समय सीमा में मेंटनेंस करने तथा कम से कम शटडाउन करने के निर्देश दिए।
....
इनका कहना है..
इंदिरा गृह ज्योति योजना में कहीं कोई अपात्र शामिल हुए है तो जल्द ही इसकी जांच कराई जाएगी। फिलहाल विभाग का फोकस उपभोक्ताओं को सुचारू बिजली उपलब्ध कराना है। इस पर ऊर्जा मंत्री ने खासकर निर्देशित किया है।
-वायके सिंघई,संभागीय अभियंता पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी।

manohar soni
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned