पैथालॉजी लैब में ब्लड परीक्षण मटेरियल का टोटा

Dinesh Sahu

Publish: Mar, 17 2019 12:05:20 PM (IST) | Updated: Mar, 17 2019 12:05:21 PM (IST)

Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

 

 

छिंदवाड़ा। मेडिकल कॉलेज से सम्बंध जिला अस्पताल की पैथालॉजी लैब में ब्लड की कई तरह की जांच नहीं हो पा रही है। इसकी वजह से आए दिन विभाग में विवाद की स्थिति निर्मित होती है। शनिवार को ऐसा ही एक मामला प्रकाश में आया है, जिसमें ब्लड जांच करने के कुछ केमिकल खत्म होने से मरीजों को या तो अधूरी जांच या बिना जांच के वापस कर दिया जा रहा था।

 

मरीज या परिजन द्वारा विरोध करने पर विभाग के कर्मचारियों ने पैथालॉजिस्टों से सूचना दी तो उन्होंने भी संतोषप्रद जवाब नहीं दिया। बताया जाता है कि सीबीसी, थाइराइड, एलएफटी, आरएफटी, हीमोग्लोबिन, पीलिया समेत अन्य कई तरह की जांच नहीं हो पा रही है। हालांकि विभागीय अधिकारी मामले को दबाने के लिए दावा कर रहे है कि समस्त जांच हो रही है।

 

बताया जाता है कि ब्लड जांच नहीं हो पाने से एक दिन पहले लैब में विवाद और कर्मचारी पर हाथ उठाने की धमकी दी गई थी। जिसके बाद परिसर में माहौल तनावग्रस्त हो गया तथा घटना के विरोध में सभी एकजुट हो गए थे।

 

निजी पैथालॉजी काट रहे चांदी -

 

शासकीय पैथालॉजी में ब्लड की आवश्यक जांच नहीं होने का फायदा निजी पैथालॉजी संचालक उठाते है तथा मनमानी फीस वसूलते है। बता दें कि अस्पताल परिसर के समीप कुछ शासकीय पैथालॉजिस्टों के निजी लैब भी संचालित हो रहे है। जहां मरीजों को जांच कराने के लिए दबाव बनाया जाता है। कई बार सामाजिक कार्यकर्ताओं ने शिकायत भी की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई।

 

फंड नहीं होने से बिगड़ती है व्यवस्था -

 

पैथालॉजी में जांच मटेरियल के लिए पर्याप्त बजट नहीं होने से अन्य मद से खरीदी करना पड़ रहा है। हालांकि रोगी कल्याण समिति के फंड से व्यवस्था बनाई जाएगी। पैथालॉजी में हो रही समस्या के संदर्भ में मुझे किसी ने सूचना नहीं दी है।

- डॉ. सुशील राठी, सिविल सर्जन

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned