क्रूरता की हद, बोरियों के बीच ठूंसकर रखे गए थे मवेशी

9 मृत, 16 मवेशी गम्भीर हालत में मिले,कार्यकर्ताओं के प्रयास से पशुओं की जान बचाई गई तथा नौ मृत पशुओं को भूमका घाट पर ही दफनाया गया

By: prabha shankar

Updated: 15 Jan 2018, 11:30 AM IST

छिंदवाड़ा. भुमका घाट के समीप एक वाहन से जब दुर्गंध पूरे क्षेत्र में फैलने लगी तो लोगों में सनसनी फैल गई। सूचना पर अमरवाड़ा पुलिस ने ट्रक क्रमांक डीएल आईएन 3310 को खोला तो उसमें 25 गोवंश को क्रूरता पूर्वक भरा पाया गया। इस ट्रक से नौ पशु मृत तथा 16 पशु गम्भीर हालत में निकाले गए। मवेशियों के चारों ओर भूसे की बोरियां लगाई गईं थी ताकि कोई बाहर से उन्हें न देख सके। इस मौके पर एसडीओपी बहादुर सिंह बारिवा, नगर निरीक्षक अनिल सिंघई, द्वारका पाल, निशा श्रीवास्तव सहित आरक्षक आशीष, गजानन, वीरेंद्र शर्मा, देवेंद्र सूर्यवंशी, आनंद तिवारी और बजरंग दल कार्यकर्ता सुजीत नेमा, संतू महाराज, सागर श्रीवास्तव, आकाश साहू, गोलू अंशुल साहू, मनोज भाषा, दुर्गेश आदि कार्यकर्ताओं के प्रयास से पशुओं की जान बचाई गई तथा नौ मृत पशुओं को भूमका घाट पर ही दफनाया गया। पुलिस ने ट्रक को थाना परिसर में खड़ा करवा दिया है।


गौरतलब है कि एक माह में पुलिस ने ऐसी कई कार्रवाई की है। विगत दिवस 13 दिसम्बर की रात्रि को अमरवाड़ा नगर से दूर जुंगावानी टोल नाके के समीप तीन ट्रकों में ठूंस-ठंूस कर भरे गए 141 मवेशियों को पकड़ा था, जिन्हें मेघासिवनी स्थित गोशाला पर भिजवाया गया और तस्करों को गिरफ्तार कर जुलूस निकालकर न्यायालय भेज दिया गया।


इसके अलावा 23 दिसम्बर को पुन: अमरवाड़ा पुलिस ने टोल नाके के समीप बैरिकेट्स लगाकर गोवंश ले जा रहे ट्रक को पकड़ा। ट्रक के बेरिकेट्स तोडऩे पर पुलिस ने घेराबंदी कर ट्रक का पीछा कर भुमका घाटी के जंगलों से पकड़ा जहां ड्राइवर कंडक्टर ट्रक को छोडक़र भाग गए। इसमें 58 गोवंश मिले साथ ही पांच गोवंश की दम घुटने के कारण मौत हो गई थी। रविवार को एक ट्रक फिर पकड़ा गया उसमें 25 गोवंश मिले।


सख्त कार्रवाई की मांग
गोवंश परिवहन कर रहे ट्रकों को जब्त कर राजसात करने की मांग की जा रही है। जब तक गोवंश तस्करों के खिलाफ कठोर कार्रवाई नहीं की जाएगी जब तक गोवंश तस्करी नहीं रुक सकती। नगरवासियों ने सम्बंधित अधिकारियों से जब्त वाहनों को सीधे राजसात करने की मांग की है। अक्सर वाहन मालिक कोर्ट के माध्यम से वाहन छुड़वा लेते हैं और फिर इसी इसी काम पर लगा देते हैं।

prabha shankar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned