उच्च शिक्षा के घोटाले के खिलाफ क्रांति की मशाल पहुंची छिंदवाड़ा

Prem Dehariya

Publish: Jul, 13 2018 05:30:59 PM (IST)

Chhindwara, Madhya Pradesh, India
उच्च शिक्षा के घोटाले के खिलाफ क्रांति की मशाल पहुंची छिंदवाड़ा

मप्र की उच्च शिक्षा में घोटाला व भ्रष्टाचार के खिलाफ 51 जिलों के प्रत्येक तहसील तक चेतना जागृत करने के लिए इंदौर से शुरू हुई संवाद क्रांति यात्रा गुरुवार को छिंदवाड़ा पहुंची।

छिंदवाड़ा. मप्र की उच्च शिक्षा में घोटाला व भ्रष्टाचार के खिलाफ 51 जिलों के प्रत्येक तहसील तक चेतना जागृत करने के लिए इंदौर से शुरू हुई संवाद क्रांति यात्रा गुरुवार को छिंदवाड़ा पहुंची। यात्रा के 85 वें दिन टीम ने जिले के जुन्नारदेव, दमुआ, परासिया, तामिया, हर्रई, लोधीखेड़ा, उमरानाला, छिंदवाड़ा में स्कूलों एवं कॉलेजों में शिक्षकों, विद्यार्थियों एवं प्रबुद्वजनों से सीधे संवाद किया।
बताया कि किस प्रकार भ्रष्ट सिस्टम युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है। टीम ने उच्च शिक्षा में घोटालों के लिखित तथ्य के साथ सभी को संवाद क्रान्ति पत्रिका प्रदान की। संवाद क्रांति यात्रा के संयोजक व यात्रा के जरिए प्रदेश में जागरुकता फैलाने का बीड़ा उठाने वाले सामाजिक कार्यकर्ता व आरटीआइ एक्टिविस्ट पंकज प्रजापति ने बताया कि यात्रा का उद्देश्य भ्रष्टाचार को खत्म करना एवं शिक्षा में सुधार करना है। चेतना जागृत करने से ही क्रांति का सूत्रपात हो सकता है। जनता की जागरुकता ही सरकार को कार्यवाही के लिए मजबूर करेगी। संवाद के दौरान शैक्षणिक संस्थाओं के शिक्षक, विद्यार्थी एवं प्रबुद्धजनों ने क्रांति आंदोलन की सराहना की और इसे वर्तमान भ्रष्ट शिक्षा व्यवस्था के लिए जरूरी बताया।
संवाद क्रांति 19 अप्रैल से इंदौर से शुरू हुई थी। प्रदेश के विभिन्न जिलों से होते हुए यात्रा छिंदवाड़ा पहुंची। संयोजक ने बताया कि इसके पश्चात हम नरसिंहपुर के लिए रवाना होंगे। हम यात्रा के दौरान लोगों से भ्रष्टाचार को खत्म करने के विचार को भी जान रहे हैं। यात्रा समापन के पश्चात इन पर कार्य किया जाएगा।
इधर जिले के विभिन्न गांवों में इन दिनों जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है। गत दिवस आदिवासी बहुल पाठई ग्राम में स्कूली विद्यार्थियों के बीच यह आयोजन किया गया। नेशनल लोक अदालत का आयोजन 14 जुलाई को है। पैरालीगल वॉलेंटियर श्यामल राव ने उपस्थित छात्र-छात्राओं को बताया कि जिला और तहसील स्तर पर न्यायलय में चल रहे व्यक्तियों के प्रकरणों को समय पूर्व आपसी समझौतों के माध्यम से निपटाना चाहते हैं वे 14 जुलाई को आयोजित नेशनल लोक अदालत में सूझ बूझ का परिचय देकर विवादों का निपटारा करा सकते हैं। विद्यार्थियों को सालसा और नालसा के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। इस संबंध में प्रचार सामग्री भी वितरित की गई।

Ad Block is Banned