कलेक्टर ने की परियोजना अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई, जानें वजह

- विभागीय कार्यों में लापरवाही और उदासीनता बताया वजह, कलेक्ट्रेट में हुई स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास की संयुक्त समीक्षा बैठक

By: Dinesh Sahu

Updated: 12 Feb 2021, 12:16 PM IST

छिंदवाड़ा/ महिला बाल विकास विभाग अंतर्गत संचालित कार्यक्रम के तहत सी-सेम में बच्चों के पंजीयन और पोषण पुनर्वास केंद्र (एनआरसी) में कुपोषित बच्चों की रेफरल प्रगति कम होने पर कलेक्टर सौरभ कुमार सुमन ने चौरई के परियोजना अधिकारी को कारण बताओ नोटिस दिया हैं।

साथ ही स्वास्थ्य विभाग के सभी राष्ट्रीय कार्यक्रमों एवं योजनाओं समेत महिला बाल विभाग के सभी राष्ट्रीय कार्यक्रमों की बिंदुवार समीक्षा कर दोनों विभागों को संयुकत रूप से कार्य कर रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश दिए। कलेक्ट्रेट सभा कक्षा में गुरुवार आयोजित स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास विभाग की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर बोल रहे थे।

कलेक्टर सुमन ने मैदानी अमलों को आवश्यक प्रशिक्षण देकर सेवा लेने, अक्षिता कार्यक्रम की कार्ययोजना के तहत संयुक्त टीम के माध्यम से हितग्राहियों को चिन्हित करने, स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने समेत अन्य कार्यों के निर्देश दिए गए।

साथ ही सेक्टर स्तर पर प्रति सप्ताह संयुक्त बैठक करने, सी-सेम बच्चों के पंजीयन, एनआरसी रेफरल, पंजीकृत मेम बच्चों का फालोअप, एनआरसी में भर्ती बच्चों की स्थिति, प्रधानमंत्री मातृ वंदना, लाडली लक्ष्मी योजना, बाल देख-रेख संस्थाओं में निवारत बच्चों की स्थिति, वन स्टॉफ सेंटर सखी समेत अन्य कार्यक्रमों की समीक्षा कर आवश्यक निर्देश दिए गए। बैठक में सम्बंधित विभागों समेत अन्य अधिकारी-कर्मचारी मौजूद थे।


स्वास्थ्य विभाग कि की सराहना -


बैठक में कलेक्टर सुमन ने मातृ-शिशु मृत्यु दर में कमी लाने पर स्वास्थ्य विभाग की सराहना की तथा बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं देने के निर्देश दिए। इस दौरान एएनसी की सेवाएं, एंटीनेटल केयर सर्विस, प्रसूति सेवाएं, मैटरनल एवं चाइल्थ डेथ, एसएनसीयू वार्ड में बच्चों के एडमिशन, टीकाकरण, राष्ट्रीय परिवार कल्याण कार्यक्रम, क्षय नियंत्रण, बाल स्वास्थ्य, एनसीडी, कुष्ठ, सुरक्षित मातृत्व आदि की प्रगति की समीक्षा की।

Show More
Dinesh Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned