तिब्बती बाजार पर असमंजस, स्थानीय व्यापारियों को होगा फायदा

कोरोना संक्रमण के चलते निगम में नहीं पहुंचा आवेदन

By: prabha shankar

Published: 26 Nov 2020, 06:01 PM IST

छिंदवाड़ा। जेल बगीचा पर इस बार तिब्बती गर्म कपड़ों के बाजार पर असमंजस बना हुआ है। कोरोना संक्रमण के चलते नगर निगम में इसकी अनुमति का आवेदन नहीं पहुंचा। तिब्बती दुकानें न लगने से स्थानीय व्यापारियों का चेहरा खिल गया है। विकल्प के अभाव में लोग रेडीमेड शोरूम में ही गर्म कपड़े खरीदने पहुंच रहे हैं।
पिछले दो दशक से शहर के अलग-अलग स्थानों पर ठंड का मौसम आते ही तिब्बती व्यापारी अपनी दुकानें लगाते रहे हैं। यह बाजार अक्टूबर से फरवरी अंत तक लगाने की परम्परा रही है। इस पर नगर निगम स्थान के हिसाब से शुल्क वसूलता है। इस बार इस बाजार पर कोरोना महामारी का ग्रहण लग गया है।
तिब्बती व्यापारियों के न आने से तिब्बत, चंडीगढ़, हिमाचल समेत देश के उत्तरी राज्यों से आनेवाले गर्म कपड़े स्थानीय नागरिकों को अपेक्षाकृत सस्ते में नहीं मिल पाएंगे। इधर, इन व्यापारियों के न आने से स्थानीय कपड़ा व्यवसायी खुश बताए गए हैं। उन्होंने नगर निगम पहुंचकर इस बार तिब्बती बाजार को अनुमति न देने की बात कही थी। इस बार कोरोना संक्रमण से उनके मनमुताबिक काम हो रहा है।

व्यवसायियों ने डेरा जमाया
इस वर्ष तिब्बती व्यापारियों के न आने से शहर में जगह-जगह अस्थायी कपड़ा व्यवसायियों ने डेरा जमा लिया है। साप्ताहिक अवकाश के दिन तो फव्वारा चौक से लेकर गल्र्स कॉलेज तक जैकेट, स्वेटर समेत अन्य गर्म कपड़ों का बाजार नजर आता है। इसके अलावा बस स्टैण्ड, परासिया रोड, नागपुर रोड समेत अन्य स्थानों पर इन दुकानों को देखा जा सकता है।

Show More
prabha shankar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned