नहीं थम रहा जिले में कोरोना संक्रमण से मौत का सिलसिला, जानें वजह

- मृतकों में छिंदवाड़ा समेत सिवनी तथा बालाघाट निवासी

By: Dinesh Sahu

Published: 30 Oct 2020, 12:15 PM IST

छिंदवाड़ा/ छिंदवाड़ा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस से सम्बद्ध जिला अस्पताल में तीन कोविड-19 के मरीजों ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। बताया जाता है कि मृतक छिंदवाड़ा समेत सिवनी और बालाघाट जिले के निवासी है। नगर निगम अमले ने सभी शवों का अंतिम संस्कार सामाजिक रीति-रिवाज और कोरोना प्रोटोकाल के तहत किया है। मिली जानकारी के अनुसार सोमवार को हुई मौत में छिंदवाड़ा के ग्राम मोहरली निवासी 55 बुजुर्ग है, जो कि मधुमेह रोग से भी पीडि़त थे तथा 3 अक्टूबर 2020 को भर्ती हुए थे। वहीं 15 अक्टूबर को हुई जांच में उन्हें कोरोना पॉजिटिव बताया गया था।

इसी तरह सिवनी निवासी 74 वर्षीय बुजुर्ग 6 अक्टूबर 2020 को भर्ती हुए थे, जिनकी भी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव थी। लेकिन उन्हें अन्य कोई रोग नहीं था। वहीं अगले दिन मंगलवार को बालाघाट जिला तहसील बारासिवनी के ग्राम डानीटोला बुडबुडा निवासी 58 वर्षीय महिला ने भी उपचार के दौरान दम तोड़ दिया।

बताया जाता है महिला 23 अक्टूबर को भर्ती हुई थी तथा कोरोना संक्रमण के साथ-साथ उन्हें वात-पित्त की भी शिकायत थी। इधर प्रशासनिक रिकार्ड में कोरोना संक्रमण की वजह से जिले में कुल 37 मरीजों ने जान गवां चुके है तथा वर्तमान में आइसोलेशन वार्ड में 60 संक्रमितों का उपचार जारी है।


कई दिन चले उपचार के बाद भी नहीं हुए स्वस्थ -


इधर परिजन का आरोप है कि अस्पताल में मरीजों की देखरेख और उपचार में लापरवाही बरती जाती है। उपचार में डॉक्टर भी औपचारिकता पूरी करते है। इसी वजह से कई-कई दिन तक उपचार के बावजूद लोगों की जान नहीं बच पाती है। हालांकि डॉक्टर मौत की वजह अधिक उम्र के साथ-साथ अन्य गंभीर बीमारी से पीडि़त होना बताते है।

COVID-19
Show More
Dinesh Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned