Corona Effect: सरकारी स्कूलों की बढ़ी पूछपरख

दसवीं के बाद छात्रों के उत्कृष्ट विद्यालय की ओर बढ़े कदम

By: prabha shankar

Published: 21 Jul 2021, 10:48 AM IST

छिंदवाड़ा। वर्तमान शैक्षणिक सत्र में विद्यार्थियों का रुझान उत्कृष्ट विद्यालय की ओर तेजी से बढ़ा है। आठवीं- दसवीं के बाद बड़ी संख्या में छात्र सरकारी स्कूलों में प्रवेश ले रहे हैं। हाल ही में छिंदवाड़ा उत्कृष्ट विद्यालय में 11वीं में प्रवेश के लिए बड़ी संख्या में लोगों ने एडमिशन फॉर्म लिए हैं। पिछले 15 दिन में 350 फॉर्म बिक चुके हैं। यह संख्या 1000 से अधिक पहुंच सकती है।
इसकी मुख्य वजह छिंदवाड़ा उत्कृष्ट विद्यालय में हिंदी माध्यम के साथ साथ अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई होना बताया जा रहा है। विद्यालय प्राचार्य के अनुसार मैथ्स, बायो, कामर्स, एग्रीकल्चर के साथ साथ आर्ट विषय तक की पढ़ाई के लिए अंग्रेजी माध्यम की व्यवस्था है। विद्यालय में एडमिशन के लिए मेरिट ही आधार बनेगा। जिस बच्चे के प्रतिशत अधिक होंगे उसे पहले प्राथमिकता दी जाएगी। फॉर्म जमा करने के दौरान हाईस्कूल की इंटरनेट से निकाली गई अंकसूची जरूरी है। आरक्षण के लिए जाति प्रमाण-पत्र अनिवार्य है।
गौरतलब है कि उत्कृष्ट विद्यालय में 11 वीं में पढ़ाने के लिए अभिभावकों को वर्षभर में अधिकतम 2000 रुपए तक ही खर्च करने पडेंग़े।

40 प्रतिशत अंकों में भी मिल रहा प्रवेश
दसवीं उत्तीर्ण कर 11वीं में प्रवेश लेने वाले छात्रों के लिए कई विकल्प खुले हुए हंै। जहां गणित संकाय के लिए कम से कम कम 75 प्रतिशत अंक होना जरूरी है, वहीं हार्टीकल्चर विषय के लिए कम से कम 40 प्रतिशत तक अर्हता आवश्यक है। इसके अलावा कला के लिए 55 प्रतिशत, वाणिज्य के लिए 60 प्रतिशत, जीवविज्ञान के लिए 70 प्रतिशत होना जरूरी है।

इनका कहना है
गत वर्षों की अपेक्षा इस वर्ष अधिक संख्या में बच्चों ने फॉर्म लिए हैं। विद्यालय के ही करीब 284 बच्चे 11वीं में प्रवेश करेंगे। इसके अतिरिक्त 350 और बच्चे लिए जा सकते हैं। इसका मुख्य कारण विद्यालय में अंग्रेजी माध्यम की भी सुविधा होना है।
आईएम भीमनवार, प्राचार्य उत्कृष्ट विद्यालय छिंदवाड़ा

prabha shankar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned