Corona effect: खतरा बढ़ रहा और एटीएम बूथों में सुरक्षा हो रही कम

संक्रमण फैलने की आशंका बनी हुई है।

By: ashish mishra

Published: 19 Sep 2020, 12:54 PM IST

छिंदवाड़ा. जिले में दिनभर काफी संख्या में लोग विभिन्न बैंकों के एटीएम बूथ पर जाकर राशि की निकासी कर रहे हैं। इसके बावजूद भी एटीएम बूथों में कोरोना से बचाव के इंतजाम नहीं है। ऐसे में एटीएम के जरिए कोरोना का संक्रमण फैलने की आशंका बनी हुई है। मुख्यालय पर विभिन्न बैंकों के 100 से ज्यादा एटीएम बूथ हैं। इनमें से ज्यादातर एटीएम में कोरोना से बचने के लिए न ही एटीएम रुम को सैनिटाइज किया जा रहा है और न ही हैंड सेनिटाइजर ही यहां रखा जा रहा है। जो भी ग्राहक रुपए निकालने के लिए एटीएम में प्रवेश कर रहे हैं। वह दरवाजा भी अपने हाथों से ही खोल रहे हैं और एटीएम मशीन में लगे बटन को दबाने के लिए अंगुलियों का ही इस्तेमाल कर रहे हैं। ऐसे में अगर कोई संक्रमित व्यक्ति इसका इस्तेमाल करेगा तो कोरोना का संक्रमण दूसरे व्यक्तियों तक पहुंच सकता है। कोरोना संक्रमण के शुरुआती दौर में बैंकों के एटीएम में सैनिटाइज व हैंड सैनिटाइजर रखा जाता था, लेकिन जैसे जैसे कोरोना का खतरा बढऩे लगा है सुरक्षा कम होती चली गई। इसके अलावा शहर में विभिन्न बैंकों में भी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ रही हैं। बैंकों के बाहर लोगों की भीड़ जमा हो रही है।


न गार्ड और न ही सफाई, व्यवस्था भी चरमराई
शहर में संचालित विभिन्न बैंकों के अधिकतर एटीएम बूथ पर गार्ड भी तैनात नहीं हैं। ऐसे में एटीएम में सफाई भी नहीं हो रही है। एटीएम पर राशि निकासी करने पहुंचे चंदनगांव निवासी राकेश सिंह ने बताया कि मैं आज घर से सैनिटाइजर लाना भूल गया था। मुझे आशा थी कि एटीएम में सैनिटाइजर मिल जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मैं अब बिना पैसा निकाले ही घर जा रहा हूं। शहर के अधिकतर एटीएम बूथों पर सैनिटाइजर की व्यवस्था नहीं होने से यहां राशि निकासी को आने वाले दिन भर में दर्जनों लोगों की उंगली एटीएम पैड पर पडऩे से कोरोना वायरस संक्रमण की आशंका को नकारा नहीं जा सकता है।

ashish mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned