scriptCorporation administration woke up when the police wrote 19 letters | Corporation: 19 पत्र पुलिस ने लिखे तब जागा निगम प्रशासन | Patrika News

Corporation: 19 पत्र पुलिस ने लिखे तब जागा निगम प्रशासन

अवैध कॉलोनाइजरों के खिलाफ कार्रवाई का ढोल पीटने वाले नगर निगम अभी तक केवल 19 कॉलोनाइजरों के खिलाफ दस्तावेज पेश कर पाई है।

छिंदवाड़ा

Updated: April 21, 2022 01:40:36 pm

छिंदवाड़ा. अवैध कॉलोनाइजरों के खिलाफ कार्रवाई का ढोल पीटने वाले नगर निगम अभी तक केवल 19 कॉलोनाइजरों के खिलाफ दस्तावेज पेश कर पाई है। सबसे खास बात यह है कि इनमें से भी अधिकांश कॉलोनाइजरों के खिलाफ अपराध दर्ज करने में पुलिस को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। दस्तावेज अपूर्ण है, या फिर लिखे हुए प्रतिवेदन में शब्दों की तकनीकी गड़बडिय़ों का अम्बार है।

patrika
patrika

नगर निगम ने 192 कॉलोनाइजरों के खिलाफ कार्रवाई के लिए दस्तावेज जुटाने और पुलिस को सौंपने की बात तो कही है, लेकिन अभी तक केवल 19 कॉलोनाइजरों के ही दस्तावेज पुलिस के हाथ लगे हैं। सबसे रोचक बात यह है कि पुलिस ने नगर निगम से 13 पत्राचार किए हैं जिसके उपरांत उन्होंने बड़ी मुश्किल से 19 नामों की सूची और दस्तावेज सौंपे। सबसे रोचक बात यह है कि 192 कॉलोनाइजरों के खिलाफ कार्रवाई की सूची वर्ष 2015 से 2017 तक तैयार हुई है। वर्ष 2017 से आज तक की स्थिति में 5 वर्ष बीत चुके हैं। जबकि वर्ष 2015 से अभी तक 7 वर्ष बीत गए। इन वर्षों में निगम केवल कॉलोनाइजरों को धौंस देते आ रहा है। निगम ने दिलचस्पी नहीं दिखाई नहीं तो पहले ही अपराध दर्ज हो चुके होते और अभी भी केवल 19 नाम और दस्तावेज पेश करना उनकी कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ा कर रहा है।

क्या है अवैध कॉलोनी और प्लाट

अवैध कॉलोनी और प्लॉट कैसे होते हैं एक बार इसे भी समझ लेते हैं। सबसे पहले तो यह कि कॉलोनी या फिर प्लॉट बेचने वाले का लाइसेंस यानि वह कॉलोनाइजर के रूप में रजिस्र्ड होना चाहिए। रजिस्ट्रेशन कलेक्ट्रेट से जारी होता है। जिस स्थान पर प्लॉट काटे जा रहे या फिर कॉलोनी बनाई जा रही है वह जमीन कृषि भूमि बिल्कुल भी नहीं होनी चाहिए। भूमि का डायवर्सन होना चाहिए साथ ही विकास की अनुमति भी लेनी होगी। पर्यावरणीय स्वीकृति भी आवश्यक है। बेचे जाने वाले प्लॉट या फिर कॉलोनी निर्माण कर मकान बेचने के लिए निर्धारित मापदंड में कॉलोनी के भीतर सड़कें, रोशनी, पानी, गंदे पानी के ट्रिटमेंट प्लांट का होना अनिवार्य है। उक्त सभी बिन्दुओं का पालन नहीं किया गया तब प्लॉट और कॉलोनी अवैध कहलाती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीश्योक नदी में गिरा सेना का वाहन, 26 सैनिकों में से 7 की मौतआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानतRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चआजम खान को सुप्रीम कोर्ट से फिर बड़ी राहत, जौहर यूनिवर्सिटी पर नहीं चलेगा बुलडोजरMumbai Drugs Case: क्रूज ड्रग्स केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को NCB से क्लीन चिट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.