Cheated: एसपी के नाम की फर्जी आइडी बनाकर डीएफओ को दिया धोखा, फिर पुलिस ने बचाया

जिला मुख्यालय पर पदस्थ वन विभाग का एक अधिकारी पिछले दिनों ठगी का शिकार हो गया। पुलिस की तत्पर्ता से वह 60 हजार रुपए गंवाने से बच गए।

By: babanrao pathe

Published: 24 Aug 2020, 09:35 AM IST

छिंदवाड़ा. जिला मुख्यालय पर पदस्थ वन विभाग का एक अधिकारी पिछले दिनों ठगी का शिकार हो गया। पुलिस की तत्पर्ता से वह 60 हजार रुपए गंवाने से बच गए। छिंदवाड़ा साइबर सेल की टीम ने बदमाश के खाते में रुपए पहुंचने से पहले ही ट्रांजेक्शन को रोक दिया। रुपए अधिकारी के खाते में वापस हो गए हैं।

वन विभाग के पूर्व वनमण्डल डीएफओ अखिल बंसल को मण्डला पुलिस अधीक्षक की फर्जी फेसबुक आइडी से एक मैसेज मिला था, जिसमें उन्होंने 60 हजार रुपए की मदद मांगी थी। मैसेज के साथ एक अकाउंट नम्बर भी भेजा जिसमें रुपए जमा करने के लिए कहा गया था। डीएफओ अखिल बंसल और मण्डला एसपी परिचित है, जिसके चलते बंसल ने मैसेज मिलते ही फर्जी आइडी पर दिए गए बैंक अकाउंट नम्बर पर मोबाइल के माध्यम से 60 हजार रुपए डाल दिए। रुपए ट्रांसफर करने के बाद धोखाधड़ी का अहसास हुआ तो छानबीन शुरू की गई। कुछ देर बाद सामने आया कि मण्डला पुलिस अधीक्षक के नाम से किसी बदमाश ने फर्जी आइडी बनाकर रखी है जिसके माध्यम से धोखाधड़ी हुई है। डीएफओ ने तत्काल पुलिस अधिकारियों से सम्पर्क कर पूरा घटनाक्रम बताया। साइबर सेल की टीम ने छानबीन करने के बाद जिस एप के माध्यम से रुपए ट्रांसफर किए उसी से ट्रांजेक्शन रोक दिया। डीएफओ धोखाधड़ी का शिकार तो हुए, लेकिन 60 हजार रुपए गंवाने से बच गए।

डिजीटल पेमेंट करते समय बरतें सावधानी
किसी भी अनजान नम्बर से कॉल आने पर अपने अकाउंट सम्बंधी जानकारी साझा न करें।
भुगतान सम्बंधी किसी भी परेशानी के समय अपने पेमेंट एप्प के हेल्प मेन्यू में जाकर सहायता प्राप्त करें।
समय-समय पर अपने ऑनलाइन ई-पेमेंट एप्प के पासवर्ड, पिन बदलते रहें।
सोशल मीडिया पर मैसेजे बॉक्स में किसी प्रकार की लिंक प्राप्त होने पर उस पर क्लिक ना करें।
किसी भी अज्ञात व्यक्ति के कहने पर रिमोट एक्सेस एप्पलीकेशन जैसे क्विक सपोर्ट, एनीडेस्क, टीम व्यूअर, आदि इंस्टाल ना करें।
इंटरनेट के माध्म से किसी भी प्रकार के कस्टमर केयर पर बात करने से पहले मोबाइल नम्बर के सत्यता की पुष्टि जरूर कर लें।
मदद मांगने वाले फेसबुक मैसेज से पूरी तरह बचें। सम्बंधित व्यक्ति से फोन पर सम्पर्क कर मैसेज की सत्यता की जांच कर लें।

Show More
babanrao pathe Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned